वाहन बीमा की जानकारी, वाहन बीमा के प्रकार, वाहन बीमा कैसे करे | Vahan Insurance

वाहन बीमा क्या है? वाहन बीमा की जानकारी 

वाहन बीमा क्या है? यह एक ऐसा बीमा है जो किसी भी वाहन जैसे दोपहिया या अन्य वाणिज्यिक वाहन के नुकसान या क्षति की भरपाई करता है। पॉलिसी धारक को भुगतान की जाने वाली प्रीमियम की राशि विभिन्न चीजों पर निर्भर करती है जैसे वाहन की आयु, किस तरह का फ्यूल ब्याबहार किया जाता है, वाहन की स्थिति, पॉलिसी धारक की आयु आदि।

अपनी अपनी बाइक या गाड़ी सबको प्यारा होता है और हम सब दुआ करते हैं की कभी भी गाड़ी पे खरोच तक ना आए। पर दुर्भाग्य के कारण जब कोई दुर्घटना के वजह से गाड़ी का नुकसान हो जाता है तो बहत दुःख होता है। गाड़ी के नुकसान होने का एक दुःख और उस नुकसान को ठीक करने का भारी खर्चा का एक दुःख। 

पर आप अगर समझदार हैं तो नुकसान ठीक करने का दुःख दूर कर सकी हैं। पर कैसे ? उत्तर है वाहन बीमा करा के। 

आशा करते हैं आपको “वाहन बीमा की जानकारी” मिल गयी होगी। आगे हम जानेंगे की “वाहन बीमा के प्रकार” और वाहन बीमा के लाभ क्या क्या है? ये सब आप इस लेख में जान पाएंगे तो लेख को एंड तक जरूर पढ़ें।

 

वाहन बीमा के प्रकार

वाहन बीमा 2 प्रकार का होता है।

  1. थर्ड पार्टी मोटर इंश्योरेंस (Third Party Motor Insurance)
  2. व्यापक मोटर बीमा (Comprehensive Motor Insurance)

1. थर्ड पार्टी मोटर इंश्योरेंस क्या है? (Third Party Motor Insurance)

वाहन बीमा की जानकारी ,थर्ड पार्टी मोटर इंश्योरेंस क्या है

इस प्रकार का बीमा स्वयं के लिए नहीं बल्कि किसी तीसरे पक्ष के लिए किया जाता है। इस नीति के पीछे विचार यह है कि यदि कोई दुर्घटना होती है और दूसरा व्यक्ति, उसका वाहन या उसकी संपत्ति घायल हो जाती है तो उसे फाइनेंशियल कंपनसेशन दिया जा सके। इस बीमा को “केवल अधिनियम बीमा” के रूप में भी जाना जाता है। यह बीमा सभी वाहन मालिकों के लिए एक वैधानिक आवश्यकता है। 

तृतीय पक्ष बीमा का महत्व

  1. क्युकी यह सभी वाहन मालिकों के लिए एक वैधानिक दायित्व है, इसलिए सभी बीमा प्राप्त करने के लिए बाध्य हैं।
  2. बीमा लेने से वाहन मालिकों को सड़क दुर्घटना के कारण होने वाली किसी भी समस्या का मानसिक शांति मिलती है।
  3. थर्ड पार्टी इंश्योरेंस पॉलिसीधारक को ऐसी दुर्भाग्य की स्थिति में अपनी जेब बचाने का आश्वासन देता है।

2. व्यापक मोटर बीमा (Comprehensive Motor Insurance)

व्यापक मोटर बीमा (Comprehensive Motor Insurance)

व्यापक मोटर बीमा प्रसिद्ध है क्योंकि यह न केवल पॉलिसी धारक को बल्कि किसी भी दुर्घटना के लिए तीसरे पक्ष को भी मुआवजा देता है। व्यापक मोटर बीमा मोटर वाहनों की टक्कर के लिए क्षतिपूर्ति नहीं करता है। इस बीमा को “अदर देन कॉलिशन” भी कहा जाता है।

व्यापक मोटर बीमा का महत्व

  1. यह सबसे अच्छा सुरक्षा है जो कोई अपनी कार को दे सकता है।
  2. यह दुर्घटना के कारण उत्पन्न किसी कानूनी मुकदमे के कानूनी अनुपालन के लिए भी क्षतिपूर्ति करता है।
  3. यह न केवल पॉलिसी धारक को बल्कि तीसरे पक्ष को भी मानसिक शांति और वित्तीय सुरक्षा प्रदान करता है।

व्यापक वाहन बीमा के प्रकार

व्यापक वाहन बीमा निम्नलिखित प्रकार के होते हैं:

  1. निजी कार बीमा पॉलिसी ( private car insurance policy ):- भारत सरकार ने प्रत्येक वाहन मालिक के लिए यह बीमा प्राप्त करना अनिवार्य कर दिया है। यह बीमा एक व्यक्ति द्वारा अपनी निजी स्वामित्व वाली कार के लिए लिया जाता है। यह बीमा दुर्घटनाओं, चोरी, प्राकृतिक आपदाओं और इसी तरह के अन्य वित्तीय नुकसान की भरपाई करता है। यह पॉलिसी तीसरे पक्ष को हुए किसी भी नुकसान को भी कवर करती है। 
  2. दोपहिया बीमा पॉलिसी:- यह नीति भी भारत की केंद्र सरकार द्वारा अनिवार्य करने के लिए निर्धारित है। यह पॉलिसी बाइक या स्कूटर जैसे दोपहिया वाहनों को हुए नुकसान की भरपाई करती है। यह नीति आग, आपदा, चोरी या दुर्घटनाओं के कारण होने वाले नुकसान के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है। यह दुर्घटना के मामले में मालिक और यात्री दोनों को मुआवजा देता है।
  3. वाणिज्यिक वाहन बीमा:- यह नीति निजी वाहनों को होने वाले नुकसान की भरपाई नहीं करती है।  पॉलिसी ट्रक, बस, हेवी कमर्शियल व्हीकल l, लाइट कमर्शियल व्हीकल, मल्टी यूटिलिटी व्हीकल, एग्रीकल्चरल व्हीकल आदी को पहुंचे हुए क्षति की भरपाई करता है।
  4. एड ओन ( कॉम्प्रिहेंसिव मोटर इंश्योरेंस):- एड ओन कुछ ऐसे एक्स्ट्रा सुबिध्याए होती है जो आम तौर पर इंश्योरेंस कंपनी बिना एड ओन के खर्च नही उठती। एड ओन इंश्योरेंस के साथ साथ कुछ अधिक सुविधाएं का लाभ देती है।
  5. जीरो डिप्रीशिएशन एड ओन:- हम कुछ भी खरीदते हैं तो टाइम के साथ उसका वैल्यू गिरते जाता है। जीरो डिप्रीशिएशन एड ओन एक तरह का प्रोटेक्शन देता है जिससे की जब भी कोई व्हीकल का दुर्घटना होता है तो उसका सेटलमेंट के वक्त जितना भी वैल्यू होता है उसके साथ डिप्रीशिएट हो गया हुआ वैल्यू को जोड़ कर परिपूर्ति की जाती है।
  6. इंजिन प्रोटेक्शन कवर एड ओन:- ये एड ओन जब इंजन मैं पानी चला जाना या फिर लुब्रिकेंट ऑइल का लीक होने जैसा प्रोब्लम से आया हुआ लॉस की परिपूर्ति करता है।
  7. रोड साइड एसिस्टेंस एड ओन:- कभी भी कहीं जाते वक्त रास्ते कई गाड़ी खराब हो जाने से आधी रात को भी एसिस्टेंस दिया जाता है अगर पॉलिसी धारक ने ये एड ओन खरीदा हुआ है। ये एड ओन उनके लिए बहत लाभदेयक है जो रात के वक्त बहत ज्यादा ट्रैवल करते है।
  8. रिटर्न टू इनवाइस कवर एड ओन:- अगर पॉलिसी धारक ने ये एड ओन ले रखा है तो गाड़ी के साथ कुछ भी दुर्घटना हो जाने से इंश्योरेंस कंपनी गाड़ी की धरदी गई मूल्य का परिपूर्ति करेगी।

कौन कौन से कंपनी गाड़ी इंश्योरेंस करते हैं?

मोटर इंश्योरेंस करने के लिए भारत मैं बहुत सारी कंपनी है। उनके से कुछ अच्छे और गिने चुने कंपनी का नाम नीचे लिखा गया है:

  • रॉयल सुंदरम जनरल इंश्योरेंस
  • द ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी
  • HDFC ERGO जनरल इंश्योरेंस
  • TATA AIG जनरल इंश्योरेंस
  • द न्यू इंडिया एश्योरेंस
  • SBI जनरल इंश्योरेंस
  • बजाज आलियांज इंश्योरेंस कंपनी
  • भारती AXA जनरल इंश्योरेंस

वाहन बीमा के लाभ क्या क्या है? वाहन बीमा क्यों जरूरी है

Vahan Insurance करने से मुख्यतः 4 प्रकार के प्रमुख लाभ उठा सकते हैं। 

  • यदि बीमाधारक वाहन से कोई दूसरा वाहन या व्यक्ति का दुर्घटना होता है तो उसका उत्तरदायी बीमा कंपनी होता है और सारी नुकसान का आर्थिक भरण पोषण करता है और दुर्घटना के कानूनी कारवाई से भी बचाता है। 
  • बीमाधारक वाहन का किसी भी प्रकार के नुकसान को बीमा कंपनी आर्थिक कवरेज प्रदान करता है। 
  • बीमाधारक वाहन से अगर आप दुर्घणता ग्रस्थ होते हैं तो आपकी अस्पताल का खर्चा बीमा कंपनी को ही उठाना पड़ता है। 
  • अगर बीमाधारक वाहन के दुर्घटना से किसी का मृत्यु होता है तो बीमा कंपनी उसका मुआवजा देता है।  

FAQ’s

गाड़ी का बीमा कैसे चेक करें?

आप सीधे कंपनी को कॉल कर सकते हैं और अपने वाहन का नंबर देकर अपने वाहन के बीमा से संबंधित विवरण जान सकते हैं। आप बीमा कंपनी के कार्यालय में जाकर या एजेंट से संपर्क करके भी अपने वाहन का बीमा विवरण जान सकते हैं। यदि आप उन्हें अपना पॉलिसी नंबर और अन्य मांगी गई जानकारी प्रदान करते हैं, तो वे आपको आपके वाहन के बीमा से संबंधित विवरण देंगे।

निष्कर्ष (वाहन बीमा की जानकारी)

भारत समेत विश्व के लगभग सभी देशों में मोटर बीमा करना अनिवार्य किया गया है और अगर कोई गाड़ी के मालिक का मोटर बीमा नही है और वो अगर चेकिंग में पकड़ा जाता है तो उसको जेल के साथ भारी जुर्माना भी भरना पड़ सकता है तो आप ध्यान रखें की अपने गाड़ी और बाइक का बीमा जरूर करें। 

आपको ये पोस्ट “वाहन बीमा की जानकारी, वाहन बीमा के प्रकार, वाहन बीमा कैसे करेकैसा लगा नीचे कमेंट्स करके जरूर बताएं और पोस्ट को शेयर करना ना भूलें धन्यवाद। 

thehindisagar

TheHindiSagar हिंदी सागर Blog आप के लिए हमेसा Best Content लाता है। हमारा लक्ष लोगों को सूचनात्मक कंटेंट के माध्यम से सूचित करना जिसे वो समझ सके। हम Technology से लेके मनोरंजन तक, Politics से ले कर Business तक, खेल से लेके नौकरी तक की सुचना सबकुछ की खबर आपके पास लाने की निरंतर प्रयास कर रहे हैं।

Related Posts

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x