उत्तर प्रदेश की राजधानी कहां है? व इसका नाम क्या है?

हमारा आज का आर्टिकल “उत्तर प्रदेश की राजधानी” के विषय में है। उत्तर प्रदेश का गठन १ अप्रैल १९३७ को हुआ था, इस राज्य की स्थापना उत्तर प्रदेश के रूप में २४ जनवरी १९५० को की गई थी। अगर आप उत्तर प्रदेश की राजधानी, इतिहास, और कई जानकारी उत्तर प्रदेश के बारे में जानना चाहते है तो इसे पूरा विस्तार से ज़रूर पढ़े।९ नवम्बर २००० में भारतीय संसद ने उत्तर प्रदेश के उत्तर पश्चिम भाग से उतरांचल राज्य का निर्माण किया जिसे वर्तमान में उत्तराखंड कहा जाता है, उत्तर प्रदेश का अधिकतर हिस्सा सघन आबादी वाले गंगा और यमुना दोआब क्षेत्र में आता है उत्तर प्रदेश भारत के उत्तर में स्थित हैं।

उत्तर प्रदेश की राजधानी क्या हैं?

विभिन्न राज्यों और इलाको को मिलाकर बना हमारा एक भारत हैं, भारत के ही अधिक जनसँख्या वाले राज्यों में से एक उत्तर प्रदेश भी शामिल है।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ हैं। लखनऊ ही उत्तर प्रदेश की राजधानी हैं, लखनऊ नवाबो की नगरी के नाम से भी जाना जाता था, आज लखनऊ को बागों के शहर से जाना जाता है, इस शहर का इतिहास सूर्यवंशी राजवंश के काल का है,२०११ के जनगण के मुताबिक लखनऊ की जनसँख्या २८,१७,१०५ थी।

लखनऊ राज्य की स्थापना:

लखनऊ का प्राचीन नाम लक्ष्मणपुर या लक्ष्मणवती था। लखनऊ नगर की स्थापना श्री रामचंद्र जी के अनुज लक्ष्मण ने की थी.लखनऊ नगर श्री राम की राजधानी अयोध्या के निकट ही विराजमान है. ऐसा कहा जाता है की श्री राम ने लक्ष्मण जी को लखनऊ नगर भेंट की थी। लखनऊ के वर्तमान स्वरुप की स्थापना नवाब असफुद्दोला ने १७७५ ई.में की थी।

लक्ष्मण टीला:

पुराना लखनऊ लक्ष्मण टीले के पास स्थित था, परन्तु अब लक्ष्मण टीला का नाम पूरी तरह से हटा दिया गया है। लक्ष्मण टीला एक बड़ी गुफा थी जहाँ एक बड़ा मेला लगता था. खिलजी के समय यह गुफा तोडा गया था, ओरंग्जेबाद ने बाद मैं यहाँ एक मज्सिद का निर्माण कराया जिसे मज्सिद के साथ टीला के नाम से जाना जाने लगा।यह लखनऊ की संस्कृति के साथ जबरदस्ती की गई है।

इतिहास:

हर राज्य की अलग अलग विशेषता होती है, हर राज्य की अपनी पहचान होती है, उत्तर प्रदेश की अपनी विशेषता अपनी पहचान है। माहन मौर्य सम्राट चन्द्रगुप्त, सम्राट अशोक,समुद्र गुप्त और चन्द्रगुप्त २, इन सभी राजा महाराजा ने उत्तर प्रदेश में ही शासन किया था।हर्ष जैसे माहन प्रसिद्ध शासक ने भी राज्य में एक समय में शासन किया था।

करीब ६०० सालो तक उत्तर प्रदेश में केवल मुस्लिम वंश के लोगो का शासन रहा, १५२६ में बाबर ने दिल्ली में मुस्लिम वंश के शासन की स्थापना की जिसके कारण दिल्ली और उत्तर प्रदेश में २०० साल से अधिक समय तक मुगलों ने शासन किया।इसके बाद अंग्रेज आये और उन्होंने सत्ता पर कब्ज़ा कर दिया, राज्यों का पुग्रथं करते हुए सयुंक्त प्रान्त आगरा अवध करते हुए इलाहबाद को उत्तर प्रदेश की राजधानी बना दिया गया.

साल १८३४ तक इलाहबाद राजधानी थी लेकिन १८३४ में आगरा को राजधानी बना दिया गया और प्रान्त का नाम उत्तर पश्चिम कर दिया गया. १८५८ में तत्कालीन वायसराय लार्ड केनिंग ने इलाहाबाद को फिर राजधानी बना दिय। स्वाधीनता के लडाई के दोरान जब भारत वासियों के संघर्ष के सामने झुकते हुए अंग्रेजो ने सशर्त सरकार बनाने पर सहमति दी तो राज्य का नाम सयुंक्त प्रांत कर दिया, १९२१ तक इलाहबाद ही राजधानी रही, वर्ष १९२१ में लखनऊ को उत्तर प्रदेश की राजधानी बना दिया गया।

लखनऊ की प्रसिद्ध इमारते:

१. इमाम बाड़ा

२. घंटा घर

३. जामा मज्सिद

४. छतर मंजिल 

५. रेजीडेंसी

६. रूमी दरवाजा

७. अकबरी दरवाजा

राज्य के प्रमुख धार्मिख और पर्यटन स्थल:

उत्तरप्रदेश राज्य अपने पर्यटन स्थलों और धार्मिक स्थलों से भारत में बहुत प्रसिद्ध है, भारत ही नही बल्कि पुरे विश्व में प्रसिद्ध है। उत्तरप्रदेश के प्रसिद्ध स्थल निम्न लिखित है:

आगरा का ताजमहल:

ताजमहल भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित है,यह भारत ही नही बल्कि विश्व में प्रसिद्ध है। मगुल बादशाह शाहजहाँ १६३२ में अपने प्रिय बेगम मुमताज़ महल खातिर बनाया था. इस विशाल इमरात को बनाने में लगभग २२ वर्षो का समय लगा था। ताजमहल एक ऐसी इमारत है जो किसी धर्म का प्रतिक नही बल्कि यह ईमारत प्रेम की निशानी है।

उत्तर प्रदेश की राजधानी_Taj_Mahal

वाराणसी:

वाराणसी जिसे काशी और बनारस के नाम से भी जाना जाता है, यह सबसे प्रसिद्ध पर्यटन में से एक है। यह हिन्दू के सात धर्मो के पवित्र शेहरो में से एक है,वाराणसी  को मरने के लिए एक शुभ स्थान माना जाता है, क्यूंकि एसा माना जाता है की यह जीवन और मरन के चक्र से मोक्ष या मुक्ति प्रदान करता है।

उत्तरप्रदेश का धार्मिक स्थल वृन्दावन:

वृन्दावन हिन्दू धर्म से सम्बन्धित है, वृन्दावन भक्तो के बिच अत्यधिक धर्मिक महत्व रखता है, वृन्दावन धाम में श्री कृष्ण के भक्तो का मेला लगा रहता है, वृन्दावन के सभी मंदिरों की अपनी एक काहानी सुनने में आती है. वृन्दावन यूपी के दर्शनीय स्थल: गोविन्द देव मंदिर, हरे राम हरे कृष्ण मंदिर, केशी घाट, बांके बिहारी मंदिर, रंगनाथ जी मंदिर, निधिवन, प्रेम मंदिर, इस्कोन मंदिर, राधा दामोदर मंदिर, मदन मोहन मंदिर.

अयोध्या:

भगवान राम की जन्मस्थल अयोध्या उत्तर प्रदेश में सरयू नदी के तट पर स्थित है. अयोध्या का उल्लेख महाकाव्य रामायण सहित कई कहानियों में मिलता है. जब रावण का वध करके घर लोटे विजयी श्री राम का स्वागत करने के लिए पूरा शहर मिटटी के दिए से जगमगा उठा था, तभी से हर साल अयोध्या के ही नही बल्कि पुरे भारत के हिन्दू धर्म के लोग इस त्यौहार को धूम धाम से मनाते है। जिसे दिवाली या दीपावली त्यौहार का नाम दिया गया है.

मथुरा:

श्री कृष्ण की जन्मभूमि मथुरा में सबसे प्रसिद्ध पर्यटक आकर्षण है, यह स्थान वह माना जाता है जहाँ श्री कृष्ण जी का जन्म हुआ था, और जिस जेल में उनका जन्म हुआ था वह अब पर्यटकों के देखने के लिए प्रदर्शित है. मथुरा में देखने के लिए यह लोकप्रिय स्थान है- कृष्ण जन्म भूमि मंदिर, द्वार्कादिश मंदिर, राधा कुंडी, मथुरा स्थल, गोवर्धन हिल, बांके बिहारी मंदिर।

उत्तरप्रदेश की भाषा:

उत्तरप्रदेश में बोली जाने वाली भाषाएँ है: हिंदी,उर्दू,अवधि,ब्रज,भोजपुरी,बुल्देंखंदी,एवं अंग्रेजी, एक्ट १९५१ के अनुसार उत्तर प्रदेश की आधिरिक्त भाषा हिंदी हैं.१९८९ के बाद उर्दू भी उत्तर प्रदेश की आधिरिकता भाषा बन गयी थी अर्थात उत्तर प्रदेश की दो अधिरिकारिक भाषाए है,हिंदी और उर्दू. बिहार पहला राज्य था जिसने हिंदी को अधिकारिक भाषा रूप में अपनाया.उत्तर भारत में ८वी शताब्दी से आज तक अनेक भाषाओं में देवनागरी का प्रयोग होता आया है, यथा संस्कृत,मराठी,हिंदी,भोजपुरी,नेपाली,कोंकणी,मंथली आदि।

लखनऊ के बारे में अधिक:

आगरा और वाराणसी के साथ लखनऊ राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बनाई गई।यह हमेशा एक बहुसांस्कृतिक शहर रहा है. वर्तमान समय में लखनऊ जिले में ५ तहसील हैं और ८ ब्लोक है।

लखनऊ में तहसील या ब्लाक के अनुसार गाँव की संख्या:

क्र.संख्या 

ब्लाक नाम 

क्षेत्रफल की.मी.

जनसँख्या 

महिला पुरुष अनुपात 

1

बख्सी का तलब 

418.00

49,665

923

2

लखनऊ 

938.00

91,208

912

3

महिलाबाद 

475.00

68453

926

4

मोहनलालगंज 

698.00

80523

923

निष्कर्ष (उत्तर प्रदेश की राजधानी) :

यह थी हमारे आज के विषय “उत्तर प्रदेश की राजधानी क्या है” की जानकारी। उत्तर प्रदेश सबसे अधिक जनसँख्या वाला राज्य है। इतिहास कहता है की उत्तरप्रदेश 24 जनवरी 1950 को आस्तित्व में आया. जब भारत के governor general ने संयुक्त प्रांत आदेश १९५० पारित किया, जिसमे संयुक्त प्रांत नाम बदलकर उत्तर प्रदेश कर दिया गया। आशा करते है आपको यह लेख पसंद आया होगा और आपने उत्तर प्रदेश से जुड़ी जानकारी विस्तार से प्राप्त की। इसी के साथ हमारा यह लेख समाप्त होता है, धन्यवाद। 

और पढ़ें-

FAQ:

उत्तरप्रदेश की राजधानी क्या है?

इलाहबाद।

यूपी में नया जिला कोनसा है?

गौतमबुद्ध जिले के बाद हापुड़ को नया जिला को बनाया गया।

उत्तरप्रदेश को स्थापना दिवस कब मनाया जाता है?

२४ जनवरी ।

लखनऊ का पुराना नाम क्या था?

लक्ष्मणपुर और लखनपुर।

Leave a Comment