स्टॉक एक्सचेंज क्या है? स्टॉक एक्सचेंज के कार्य क्या है और स्टॉक एक्सचेंज का फाइदा क्या होता है?

आपको याद होगा 2020 का वो प्रसिद्ध वेब सीरीज “Scam 1992” जो इस स्टॉक एक्सचेंज या शेयर बाजार के ऊपर आधारित है। इस वेबसीरीज का प्रभाव इतना ज्यादा फैल गया की उसे देखने वाला हर एक दर्शक का जिज्ञासा शेयर मार्केट या स्टॉक एक्सचेंज के ऊपर आने लगा। अगर आप भी उन सब जिज्ञासु दर्शकों में से एक है और आपको भी स्टॉक एक्सचेंज के वारे में जानना चाहते हैं तौ आप बिलकिल सही जगह आए हैं। 

हम इस पोस्ट स्टॉक एक्सचेंज क्या है? स्टॉक एक्सचेंज के कार्य क्या है में स्टॉक एक्सचेंज से जुड़े हर एक जानकारी बताने की प्रयाश करेंगे तौ पोस्ट को अंतिम तक जरूर पढ़ें। 

स्टॉक एक्सचेंज क्या है?

एक्सचेंज एक मार्केट प्लेस है जहां खरीदार और विक्रेता विभिन्न वित्तीय साधनों जैसे कंपनियों के शेयर, बॉन्ड और कमोडिटीज का व्यापार करते हैंI SEBI(SECURITIES AND EXCHANGE BOARD OF INDIA) इन सभी लेनदेन को नियमित करता है। स्टॉक एक्सचेंज में कारोबार की जा रही प्रतिभूतियों को सूचीबद्ध कंपनियां कहा जाता है। कंपनियों के विस्तार के लिए इन स्टॉक एक्सचेंजों और सामान्य लोगों में खुद को सूचीबद्ध करने के लिए, म्यूचुअल फंड कंपनियों और अन्य संस्थाओं को ऐसे कंपनियों में निवेश करने के लिए मिलता है।

एक कंपनी स्टॉक एक्सचेंज में खुद को पंजीकृत कराने के लिए बाध्य नहीं है। यह कानूनी है अगर कोई कंपनी एक्सचेंज से अपने शेयरों का कारोबार करती है। लेकिन भारतीय पूंजी बाजार में व्यापार का सामान्य तरीका यह है कि इसे शेयर बाजार के माध्यम से ही किया जाए।

स्टॉक एक्सचेंज के कार्य 

  1. आर्थिक बैरोमीटर: किसी देश की आर्थिक स्थिति को मापने के लिए स्टॉक एक्सचेंज एक विश्वसनीय बैरोमीटर है। देश और अर्थव्यवस्था में हर बड़ा बदलाव शेयरों की कीमतों में परिलक्षित होता है। शेयर की कीमतों में वृद्धि या गिरावट अर्थव्यवस्था के उछाल या मंदी के चक्र को इंगित करती है। स्टॉक एक्सचेंज को अर्थव्यवस्था की नब्ज या आर्थिक दर्पण के रूप में भी जाना जाता है जो किसी देश की आर्थिक स्थिति को दर्शाता है।
  2. प्रतिभूतियों का मूल्य निर्धारण: शेयर बाजार मांग और आपूर्ति कारकों के आधार पर प्रतिभूतियों का मूल्य निर्धारण करने में मदद करता है। लाभदायक और विकासोन्मुख कंपनियों की प्रतिभूतियों का मूल्य अधिक होता है क्योंकि ऐसी प्रतिभूतियों की मांग अधिक होती है। प्रतिभूतियों का मूल्यांकन निवेशकों, सरकार और लेनदारों के लिए उपयोगी है। निवेशक अपने निवेश का मूल्य जान सकते हैं, लेनदार साख को महत्व दे सकते हैं और सरकार प्रतिभूतियों के मूल्य पर कर लगा सकती है।
  3. लेनदेन की सुरक्षा: शेयर बाजार में केवल सूचीबद्ध प्रतिभूतियों का ही कारोबार होता है और स्टॉक एक्सचेंज प्राधिकरण कंपनी की सुदृढ़ता की पुष्टि करने के बाद ही व्यापार सूची में कंपनियों के नाम शामिल करते हैं। जो कंपनियां सूचीबद्ध हैं उन्हें भी सख्त नियमों और विनियमों के भीतर काम करना पड़ता है। यह स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से लेनदेन की सुरक्षा सुनिश्चित करता है।
  4. आर्थिक विकास में योगदान: स्टॉक एक्सचेंज में विभिन्न कंपनियों की प्रतिभूतियों को खरीदा और बेचा जाता है। विनिवेश और पुनर्निवेश की यह प्रक्रिया सबसे अधिक उत्पादक निवेश प्रस्ताव में निवेश करने में मदद करती है और इससे पूंजी निर्माण और आर्थिक विकास होता है।
  5. समानता पंथ का प्रसार: स्टॉक एक्सचेंज लोगों को नए मुद्दों को विनियमित करके, बेहतर व्यापारिक प्रथाओं और निवेश के बारे में जनता को शिक्षित करके स्वामित्व प्रतिभूतियों में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करता है।
  6. अटकलों के लिए गुंजाइश प्रदान करना: तरलता और प्रतिभूतियों की आपूर्ति की मांग सुनिश्चित करने के लिए स्टॉक एक्सचेंज प्रतिभूतियों की स्वस्थ अटकलों की अनुमति देता है।
  7. चलनिधि: शेयर बाजार का मुख्य कार्य प्रतिभूतियों की बिक्री और खरीद के लिए तैयार बाजार उपलब्ध कराना है। स्टॉक एक्सचेंज बाजार की उपस्थिति निवेशकों को यह आश्वासन देती है कि उनके निवेश को जब चाहें नकद में परिवर्तित किया जा सकता है। निवेशक बिना किसी झिझक के लंबी अवधि की निवेश परियोजनाओं में निवेश कर सकते हैं, क्योंकि स्टॉक एक्सचेंज के कारण वे लंबी अवधि के निवेश को लघु अवधि और मध्यम अवधि में बदल सकते हैं।
  8. पूंजी का बेहतर आवंटन: लाभ कमाने वाली कंपनियों के शेयरों को उच्च कीमतों पर उद्धृत किया जाता है और सक्रिय रूप से कारोबार किया जाता है ताकि ऐसी कंपनियां शेयर बाजार से आसानी से नई पूंजी जुटा सकें। घाटे में चल रही कंपनियों की प्रतिभूतियों में निवेश करने से आम जनता हिचकिचाती है। इसलिए स्टॉक एक्सचेंज लाभदायक चैनलों को निवेशक के फंड के आवंटन की सुविधा प्रदान करता है।
  9. बचत और निवेश की आदतों को बढ़ावा देता है: शेयर बाजार विभिन्न प्रतिभूतियों में निवेश के आकर्षक अवसर प्रदान करता है। ये आकर्षक अवसर लोगों को सोने, चांदी आदि जैसी अनुत्पादक संपत्तियों में निवेश करने के बजाय कॉर्पोरेट क्षेत्र की प्रतिभूतियों में अधिक बचत करने और निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं

नीचे कुछ सबसे प्रसिद्ध स्टॉक एक्सचेंज हैं

  • NYSE स्टॉक एक्सचेंज
  • NASDAQ स्टॉक एक्सचेंज
  • London स्टॉक एक्सचेंज
  • Bombay स्टॉक एक्सचेंज

भारत में कुल कितने स्टॉक एक्सचेंज हैं?

भारत में इस समय 2 स्टॉक एक्सचेंज काम कर रहे हैं। 

स्टॉक एक्सचेंज क्या है

  • बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) – बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना 1875 में मुंबई के दलाल स्ट्रीट में हुई थी। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज दुनिया का 10वां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में 6000 सार्वजनिक कंपनियां सूचीबद्ध हैं। और लगभग 5 ट्रिलियन डॉलर का बाजार पूंजीकरण है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के इंडेक्स को सेंसेक्स (SENSEX) कहा जाता है।
  • नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) – नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना 1992 में मुंबई में हुई थी। एक नए स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना का मुख्य उद्देश्य भारत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के एकाधिकार को बेअसर करना था। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का बाजार पूंजीकरण लगभग 4 ट्रिलियन डॉलर है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज द्वारा संचालित इंडेक्स को निफ्टी 50 (NIFTY 50) कहा जाता है।

शेयर बाजार में निवेश के तरीके-

आप 2 प्रकार की तरीके से शेयर बाजार या स्टॉक एक्सचेंज मएएन निवेश कर सकते हैं। 

  1. प्राथमिक विधि
  2. माध्यमिक विधि

प्राथमिक विधि-

जब कोई कंपनी पहली बार शेयर जारी करती है तो ऐसे शेयरों की सदस्यता को शेयर सदस्यता की प्राथमिक विधि कहा जाता है। यह कहा जाता है आईपीओ (IPO)।

माध्यमिक विधि-

हर दिन व्यापारी और लंबी अवधि के निवेशक भी कंपनियों के शेयर खरीदते और बेचते हैं। ऐसे रोज़मर्रा के लेन-देन को शेयर सदस्यता का द्वितीयक तरीका कहा जाता है।

स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग के फायदे –

  • जब कोई कंपनी स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होती है, तो वह अन्य गैर-सूचीबद्ध कंपनियों पर एक निश्चित स्तर की प्रतिष्ठा प्राप्त करती है।
  • यहां तक ​​कि निवेशक भी कंपनी के शेयर खरीदकर सीधे कंपनी का एक्सपोजर ले सकते हैं।
  • ट्रेडर्स के लिए भी यह एक अच्छा संकेत है क्योंकि वे शॉर्ट टर्म प्राइस मूवमेंट से प्रॉफिट बुक कर सकते हैं।
  • स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होना सस्ते पूंजी अधिग्रहण का एक तरीका है। कंपनी को लाभ साझा करना होता है लेकिन अर्जित राशि के लिए कोई ब्याज नहीं देना पड़ता है। साथ ही आने वाले किसी भी नुकसान को अन्य शेयरधारकों को भी साझा किया जाएगा 
  • स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध कंपनियों को गुणवत्तापूर्ण कर्मचारी हासिल करने का मौका मिलता है। कर्मचारी हमेशा स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध कंपनियों की तलाश करते हैं। इससे कर्मचारियों में प्रतिष्ठा का भाव आता है।

अगर आपको जानना है की स्टॉक एक्सचेंज में शेयर कैसे खरीदते है तो ये पोस्ट पढ़ीये आपको पूरी जानकारी मिल जाएगी। 

स्टॉक एक्सचेंज क्या है? स्टॉक एक्सचेंज के कार्य – अंतिम बात

शेयर बाजार या स्टॉक एक्सचेंज कई लोगों के लिए अत्यंत भाग्यशाली होता है तो कई लोगों के लिए यह बर्बादी ले कर आती है। प्रशिद्द वेबसीरीज “Scam 1992” में आप सुने होंगे की स्टॉक वाजार एक सट्टा होता है। यह उक्ति एक दम सठिक है। इस लिए सही हिसाब से सोच समझ कर ही स्टॉक बाजार में निवेश करना चाहिए। 

उम्मीद करते हैँ इस पोस्ट स्टॉक एक्सचेंज क्या है? स्टॉक एक्सचेंज के कार्य क्या है आपको पसंद आया होगा। यदि आपके मन में कोई प्रश्न है या हमारे लिए कोई सुझाव है तो कमेंट्स में जरूर बताएं और पोस्ट को शेयर करना न भूलें धन्यवाद।

Leave a Comment