पंजाब की राजधानी क्या है? निर्माण, इतिहास और अन्य जानकारियाँ

पंजाब की राजधानी क्या है? या पंजाब की राजधानी कहाँ है?, यह जानने के लिए इसे पूरा विस्तार से पढ़े।  

पंजाब भारत के उत्तर-पुश्चिम में स्थित है, जिसका १९४७ मैं भारत के विभाजन के बाद पंजाब का आधा भाग पाकिस्तान में चला गया, १९६६ मैं पंजाब एक बार फिर से विभाजन हुआ और नए राज्यों का निर्माण हुआ, जिसके नाम हरियाणा और हिमाचल प्रदेश है। भारत में सबसे ज्यादा सिख इन्ही राज्य में है।

पंजाब की राजधानी क्या है?

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ है, चंडीगढ़ पंजाब की ही नही बल्कि हरयाणा की भी राजधानी है। भारत मैं पंजाब उत्तर पश्चिम भाग मैं स्थित है। भारत में पंजाबी पंजाब के निवासी द्वारा बोली जाती है। पंजाब की ५ नदियाँ बोहोत प्रसिद्ध है: झेलम, चेनाब, राबी, व्यास और सतलज इन्ही ५ नदियों का प्रांत पंजाब हुआ

पंजाब की राजधानी का निर्माण:

देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने पेहली पंजाब की राजधानी लाहोर की जगह चंडीगढ़ को बनाया था, चंडीगढ़ की स्थापना २८ मार्च १९४८ को करहर के २२ गाँवों को मिलकर चंडीगढ़ का निर्माण किया गया था, उसके बाद १९५३ मैं चंडीगढ़ को पंजाब की राजधानी बनाया गया था।

चंडीगढ़ मैं कुल ६० सेक्टर है।  

यहाँ के लोग बड़े आनंदपूर्वक रहते है, यहा लोग तरह तरह की संस्कृति का पालन करते दिखते हैं। यहाँ के कुछ लोग हिंदी और कुछ लोग पंजाबी मैं बात करते है, और कुछ लोग दोनों ही भाषा का प्रयोग करते है।  

चंडीगढ़ मैं चंडी मंदिर होने की वजह से भी इस शहर का नाम चंडीगढ़ रखा गया। इस शहर मैं हिन्दू धर्म की जनसँख्या अधिक हैं इसी वजह से इस शहर मैं मंदिर अधिक है। यहा आम का त्यौहार, नवरात्रि का त्यौहार, गुलाब त्यौहार आदि हर त्यौहार धूम धाम और हर्ष उल्लास से बनाते है। भारत मैं सबसे बड़ा गेहू उत्पादक पंजाब को माना जाता है।

चंडीगढ़ पंजाब और हरियाणा की राजधानी क्यों है? 

Chandigarh_map image

सन १९५० में चंडीगढ़ को पंजाब की राजधानी बनाया गया, १९६६ में जब हरयाणा को पंजाब से अलग कर गया, तब से चंडीगढ़ पंजाब और हरयाणा दोनों की राजधानी है। हरियाणा उत्तर प्रदेश एक राज्य है जिसकी राजधानी चंडीगढ़ है, हरियाणा को भारत का ग्रीनलैंड कहा जाता है, २३ अप्रैल १९६६ को पंजाब राज्य को विभाजित करने और नए हरियाणा राज्य की सीमाए निर्धारित करने के लिए भारत सरकार ने जे.सी.शाह की अधक्ष्ता में शाह कमीशन की स्थापना की’, हरियाणा के लोगो द्वारा बोली जाने वाली मुख्य भाषाएँ हरियाणवी, हिंदी, पंजाबी, अंग्रेजी, और उर्दू मैं है।

हरियाणा की प्रमुख नदियाँ: मारकंडा, यमुना, टंगरी, और सरस्वती है। शहीद भगत सिंह, युवराज सिंह, मिल्खा सिंह, सनी देओल, हरगोविंद सिंह, कपिल देव, अक्षय कुमार, और बहुत सी हस्तियाँ पंजाब से है, ३१ मई १९६६ को कमीशन अपनी रिपोर्ट जारी की, रिपोर्ट के अनुसार कर्नल, गुडगाँव, रोहतक, महेंद्रगढ़ और हिस्सार जिलो को नए राज्य हरियाणा का भाग बनाया गया । चंडीगढ़ राज्य को केन्द्रशासित प्रदेश बनाया गया था, जो पंजाब और हरयाणा दोनों राज्यों की राजधानी बनी हुयी थी। भगवत दयाल शर्मा हरियाणा के पेहले मुक्यमंत्री थे।

पंजाब राज्य के उत्सव: 

पंजाब के लोग बहुत से उत्सव मनाते है कुछ प्रसिद्ध महौत्सव को देशभर में भी मनाया जाता है, पंजाब के प्रमुख उत्सव कुछ इस प्रकार है: लोहरी, राखी, वईसाखी, मेघा, दिवाली, इस उत्सव क अलावा राष्ट्रीय उत्सव भी बड़े धूम धाम से मनाते है।  

पंजाब का इतिहास:

पंजाब दो शब्दों से बना है पंज+आब, पंज मतलब पांच संख्या से है तथा आब एक फ़ारसी शब्द है जिसका मतलब होता है पानी या नदी, इन दोनों शब्दों के मेल से यह जगह का नाम पंजाब पड़ा। विद्वानों के मुताबिक पंजाब का नाम संस्कृत के पंचनद शब्द निकाला है, जिसका मतलब है पांच नदियों  वाला स्थान। यह भूमि गुरु देव जी, गुरु गोविन्द जी, महाराजा रंजित सिंह की है जिन्होंने हमेशा से ही पंजाब को गौरव किया है। ४००० वर्ष पहले इसी जगह में सिन्धु नदी के किनारों विश्व की सबसे प्राचीन और प्रसिद्ध सभ्याता नदी घाटी सभ्यता विकसित हुयी।

वैदिक काल में पंजाब को सप्त-सिन्धु के नाम से भी जाना चाहता हैं।

पंजाब के दर्शनीय स्थान: 

१. अमृतसर

२. महाराज पटियाला का किला

३. दुर्गियाना मंदिर

४. नूरपुर किला

५. रॉक गार्डन

६ .सोडाल मंदिर आदि

पंजाब राज्य का मुख्य धर्म :

पंजाब राज्य में मुख्या धर्म सिख एवं हिन्दू की मान्यता रखी जाती है, पंजाब की कुल आबादी में सार्वाधिक सिख है इनके बाद हिन्दू, मिस्लिम और क्रिशन है। पंजाब राज्य का मुख्य धर्म सिख और हिन्दू है।

पंजाब का पुराना नाम: 

प्राचीन काल में यूनान के लोग पंजाब को पेंतापोताम्य के नाम से जाना जाता था, पारसी धर्म ग्रन्थ से इस जगह का नाम हप्ता हेंदु या सप्त सिन्धु तथा ब्रिटिश लोग इसे प्रशिया के नाम से भी जानते थे।  

भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन में योगदान : 

गांधी जी के स्वतंत्रता आन्दोलन से पहले ही ब्रिटिश शासन के खिलाफ पंजाब में संघर्ष प्रारंभ हुआ, भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन मेर पंजाब के अनेक स्वतंत्रता सेनानियों ने योगदान दिया है जिसमे से प्रमुख हे: करतार सिंह सराभा, उधम सिंह, भगत सिंह, लाला लाजपत राय, राजकुमारी अम्रत कौर, सोहन सिंह, राम सिंह आदि।

सिंचाई:

पंजाब में सिंचाई के लिए ११३४ सरकारी नहरे है, जिनसे भूमि की सिंचाई होती है, यह इसी प्रकार की खेती होती है। विश्व बैंक की सहायता से पंजाब मे सिंचाई से पंजाब में सिंचाई और जल परियाजनाओ का दूसरा चरण पूरा हो गया है। पंजाब का लगभग समूचा सिंचित प्रदेश है, सरकारी नहरे पर नुल्कुप सिंचाई के प्रमुख स्थान है, 

भूमि उपजाऊ होने और पानी की अच्छी व्यवस्था होने क कारण एक मुहावरा प्रयोग में लाया जाता है- “ यहाँ धरती सोना उगलती है”. 

और पढ़ें:

अंतिम शब्द : पंजाब की राजधानी

चंडीगढ़ जैसा अद्भुत शहर भारत में स्थित है, मधुगिन काल में यह शहर बहुत ही समृद्ध था और तब यह शहर पंजाब प्रांत का हिस्सा था । लेकिन सन १९४७ में देश को आजादी मिलने के बाद पंजाब को पश्चिम और पूर्व पंजाब में बाटा गया। भारत के बटवारे के बाद पूर्व पंजाब की कोई भी राजधानी नही थी क्योकि उस समय लाहोर शहर पाकिस्तान को दे दिया गया था । इसलिए पंजाब को राजधानी का शहर बनाने का प्लान बनाया था। इसलिए बहुत ही सक्षम अधिकारियो को इस शहर को बनाने का दायित्व दिया गया था।  

चंडीगढ़ एअरपोर्ट सिटी सेंटर से करीब ११ किलोमीटर की दुरी पर, दिल्ही मार्ग पर प्रमुख शेहरो से यहाँ के लिए नियमित उड़ाने है।  

पंजाब की और हरयाणा की राजधानी चंडीगढ़ भारत के सबसे खुबसूरत और नियोजित शेहरो में एक हैं। चंडीगढ़ को सिटी ब्यूटीफुल भी कहा जाता है।

चंडीगढ़ में कुल मिला के १२ गाँव है, १९६६ में चंडीगढ़ का गठन होने के बाद से २०११ की जनगण चंडीगढ़ में ५वि जनगण थी। चंडीगढ़ को भारत का सबसे खुशहाल और स्वच्छ शहर कहा गया है।

FAQ:

पंजाब की राजधानी क्या है?

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ है|

चंडीगढ़ शहर का नाम चंडीगढ़ क्यों रखा गया?

चंडीगढ़ मैं चंडी मंदिर होने की वजह से भी इस शहर का नाम चंडीगढ़ रखा गया |

पंजाब का सबसे बड़ा शहर किसे माना जाता ?

पंजाब का सबसे बड़ा शहर लुधियाना माना जाता है |

पंजाब के प्रमुख मुख्यमंत्री कोन थे?

श्री ज्ञानी गुरुमुख सिंह मुसाफिर जी 

पंजाब के कोनसे लोकनृत्य प्रसिद्ध है?

पंजाब के निम्नलिखित लोकनृत्य प्रसिद्ध है- भांगड़ा, जिन्दुआ, दंदस, सम्मी, गिद्धा, जागो, झुमरी,माल्वायी|

Leave a Comment