ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार

आज कल हर किसी का काम कंप्यूटर ने आसान कर दिया है लोग घर बेठे दूर लोगो से ईमेल के जरिये तुरंत सन्देश भेज सकते है इतना ही नही लोगो के ऑफिस दफ्तर के लिए भी कंप्यूटर बहुत अहम् भूमिका निभाता है, क्या आप जानते है? ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? इस पोस्ट में आपको इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी दी जाएगी।

कंप्यूटर सिर्फ बाइनरी भाषा समझता है,परन्तु जब हम कंप्यूटर को अपना कोई कमांड देते है तब वह बाइनरी भाषा में न होकर इंग्लिश या हिंदी या किसी अन्य भाषा में होता है,फिर भी कंप्यूटर उसे समझ जाता है और हमारा काम करता है। आज हम कंप्यूटर के इसी बात पर चर्चा करेंगे आखिर कोनसे कमांड से कंप्यूटर यह कर पाता है, तो बतादे की कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम से यह कार्य करता है।

 

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या हैं?

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है: ऑपरेटिंग सिस्टम एक सॉफ्टवेयर है, जो कंप्यूटर और उसर्स के बिच काम करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम को ओएस भी कहा जाता है,इसे सिस्टम सॉफ्टवेर भी कहते है। यह निर्देशों का समूह होता है जो स्टोर रहता है स्टोरेज डिवाइस में। यह कंप्यूटर के रिसोर्स तथा ऑपरेशनस को मैनेज करता है। उसका कार्य प्रोग्राम्स और एप्लिकेशन को रन करना होता है,ओएस हार्डवेयर और सॉफ्टवेर के मध्य कार्य करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम के दो प्रकार होते है:

  1. करेक्टर यूजर इंटरफ़ेस (character user interface-CUI)
  2. ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस (graphical user इंटरफ़ेस-GUI)

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है_Monitor

  • 1. करेक्टर यूजर इंटरफ़ेस:

करेक्टर यूजर इंटरफ़ेस यूजर फ्रेंडली नही होता है,इस ओएस को चलाने के लिए हमेशा कमांड को टाइप करना पड़ता है। उदाहरण: डिओएस (DOS)

  • 2. ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस:

यह सिस्टम यूजर फ्रेंडली होता है इस ओएस को चलाने के लिए कमांड नही देनी पड़ती,जिस प्रोग्राम को ओपन करना है उसमे माउस से क्लिक करना पड़ता है। उदाहरण: विंडोज (windows)

 

ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताएं:

1.  मेमोरी प्रबन्धन:

कसी भी बड़े डॉक्यूमेंट के लिए और किसी आकड़ो,प्रोगराम या क्रियावनती के लिए मेमोरी की आवश्यकता पड़ती ही है। ओएस एक समय में एक से अधिक प्रोग्राम को क्रियाव्न्ति की अनिमती देता है तता एक साथ कई प्रोग्राम मेमोरी में रहने की सुविधा प्रदान करता है। ओएस यह भी निश्चित करता है की प्रयोग हो रही मेमोरी व्यर्थ न हो इसके लिए प्रोग्राम समाप्त होने पर प्रयोग होने वाली मेमोरी को मुक्त करदिया जाता है, जिससे यह मेमोरी अन्य प्रोग्राम के लिए काम आये।

2. सुरक्षा प्रबन्धन:

यह सबसे बड़ी चुनौती उपयोगकर्ता के वेध डेटा को हेकर्स से बचाता है। अन्य लोगो द्वारा बनाई गयी फ़ाइलो तक पहुचने के लिए आपके पास पहुच की अनुमति होनी चाहिए।

3. समय साझा करना:

यह ओएस की विशेषताओं में से एक प्रमुख विशेषता है, यह एक साथ कई कार्यो या प्रक्रियो के निष्पादन की अनुमति देता है। प्रत्येक कार्य के लिए एक निश्चित समय आवंटित देता है। समय के इस विभाजन को टाइम शेरिंग कहा जाता है। एक समय बित जाने के बाद प्रोफेसर विभिन्न प्रक्रियो के बिच तेजी स्विच करता है।

4. फ़ाइल मैनेजमेंट:

एक कंप्यूटर में बहुत सारी फाइल्स होती है,इसलिए कोई एक पर्टिकुलर फाइल खोजना मुश्किल है। इसी मुश्किल काम को ओएस आसान बनाता है। ओएस फाइल्स को अलग अलग फ़ोल्डर्स के रूप में रखता है। जिससे हमे हमारी जरुरी फाइल्स सही समय पर आसानी से मिल सके।

5. सरल माध्यम उप्लब्ध कराता है

आप जिस काम को करना चाहते है उसे बटन या आइकॉन के जरिये ही पूर्ण कर पाते है। आपके डेस्कटॉप आइकॉन इसका सबसे अच्छा उदाहरण है। आपको कंप्यूटर फाइल्स में जाना हो तो आप बस माय कंप्यूटर आइकॉन पर क्लिक करे और वह ओपन हो जाता है।

ये भी पढ़ें –

 

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार:

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रमुख विबिन्न प्रकार है:

1. मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम:

मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है: यह ऑपरेटिंग सिस्टम एक से अधिक उपयोग कर्ताओं को एक साथ कार्य करने की सुविधा प्रदान करता है. इसमें एक समय में सेकड़ो उपयोगकरता अपना अपना कार्य कर सकते है।

2. सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम:

इस सिस्टम में एक समय में सिर्फ एक ही उपयोग कर्ता कार्य कर सकता है. इस ओएस में एक से अधिक उपयोग कर्ता कार्य नही कर सकते।

3. मल्टी प्रोसेसिंग ऑपरेटिंग सिस्टम:

यह ओएस एक प्रोग्राम को एक से अधिक CPU पर चलाने की सुविधा देता है।

4. मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम:

यह ओएस उपयोगकर्ता को एक साथ अलग अलग प्रोग्रेस को चलाने की सुविधा देता है.इस ओएस पर आप एक समय में ईमेल भी लिख सकते है साथ ही अपने मित्रो से चेट भी कर सकते है।

5. मल्टी थ्रेडिंग ऑपरेटिंग सिस्टम:

यह ओएस एक प्रोग्राम के विभिन्न भोगो को एक साथ चलाने की अनुमति देता है।

 

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रमुख नाम:

  1. विंडोज ओएस (windows os)
  2. मैक ओएस (Mac os)
  3. लिनक्स ओएस (linux os)
  4. एंड्राइड ओएस (android os)
  5. आई ओ एस (IOS)
  6. एमएस-दोस (MS-DOS)
  7. सिम्बियन (Simbian os)

 

अंतिम शब्द: ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है

अधिकतर सिस्टम फ्री होते अर्धात इसका इस्तमाल के लिए कोई पैसा खर्च नही होता है। इस सिस्टम को कार्ड्स मिलाकर बनाते है। ऑपरेटिंग सिस्टम के नए अपडेट समय समय पर आते रहते है, सिस्टम को अपडेट रखकर और फास्ट और सिक्योर बनाया जा सकता है। बड़ी कंपनी एप्पल के मोबाइल में आई ओ एस और पीसी में दुनिया के सबसे प्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम में से एक है।

 

FAQ:

1. ऑपरेटिंग सिस्टम का दूसरा नाम क्या है?

सिस्टम सॉफ्टवेर।

2. ऑपरेटिंग सिस्टम का क्या उदाहरण है?

एंड्राइड (android) विंडो (windows)

3. ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

यह एक सॉफ्टवेर है।

4. सिंगल यूजर ओएस क्या है?

इस सिस्टम में एक समय में सिर्फ एक ही उपयोग कर्ता कार्य कर सकता है।

Leave a Comment