नेपाल में लोकतंत्र की स्थापना कब हुई? एवं इससे जुड़ी समस्त जानकारियाँ।

नेपाल एक खूबसूरत दक्षिण एशियाई स्थलरुद्ध राष्ट्र है नेपाल के 81.3% नागरिक हिन्दू धर्म के है। आज हम आपको “नेपाल में लोकतंत्र की स्थापना कब हुई” के विषय में बतायंगे। इस तरह के सवाल अकसर सामान्य ज्ञान में पूछा जाता है जिसका जवाब आपको पता होना चाहिए। तो आज हम आपको इसी का ज्ञान देते हुए नेपाल के लोकतंत्र के विभिन्न जानकारी के बारे में बतायंगे।

नेपाल में लोकतंत्र की स्थापना कब हुई?

नेपाल में लोकतंत्र की स्थापना के लिए कई जन संघर्ष हो चुके है. बहुत से संघर्षो के बाद 10 अप्रैल 2008 को एक संविधान सभा का चुनाव हुआ, फिर 28 मई 2008 को नव निर्वाजित संविधान सभा ने नेपाल को 240 साल पुरानी राजशाही को समाप्त करते हुए एक संघीय लोकतंत्र गणराज्य घोषित किया गया। नेपाल में वर्तमान में राष्ट्रध्यक्ष के रूप में एक राष्ट्रपति और सरकार नेतृत्व करने वाला एक प्रधानमंत्री है।

नेपाल में लोकतंत्र के लिए संघर्ष:

वर्ष 1948 में निर्मित नेपाल के प्रथम संविधान के अनुसार राजा त्रिभुवन को नेपाल का वास्तविक शासक बनाया गया। अक्टूबर 1950 ई. में नेपाल के लोगो ने नेपाल में लोकतंत्र की स्थापना के लिए क्रांती प्रारम्भ कर दिया और 1951 की फरवरी के अंत में नेपाल में पहली बार लोकतंत्र की स्थापना हुई।

वर्ष 1959 में महाराजा त्रिभुवन के निधन के बाद राजा महेंद्र ने देश में एक नया संविधान लागू किया। नेपाल में पहली बार इसी वर्ष संसद के लिए चुनाव हुए। जिसमे नेपाल में लोकतांत्रिक व्यवस्था अपनाई गई परन्तु यह व्यवस्था भी अधिक दिन कायम नही रह सकी।

नेपाल में लोकतंत्र की स्थापना कब हुई_Gokiyo_Ri

वर्ष 1962 में राजा महेंद्र ने इस सीमित लोकतंत्र को समाप्त कर दिया और जनता से सभी अधिकार वापस ले लिया गया. 1989 तक ऐसी स्थति चलती रही। नेपाल के लोग लोकतंत्र के रास्ते में चलना और एक नया संविधान चाहते थे. उसमे वे आदर्श नही थे जैसा वह नेपाल के लिए चाहते थे।

नेपाल में लोकतंत्र के लिए जन आन्दोलन:

नेपाल में काफी संघर्ष के बाद नेपाल में जन आन्दोलन हुआ जिसके समक्ष राजा झुकते हुए देश में बहुदलीय लोकतंत्र की मांग को मान लिए. फिर वर्ष 1991 में हुए प्रथम बहुदलीय चुनावों के बाद नेपाली कांग्रेस ने सरकार बनाई नेपाली देश का प्रधानमंत्री नेपाल कांग्रेस के नेता जी.पी. कोइराला को बनाया गया और फिर राजा को संवैधानिक प्रधान का दर्जा दिया गया. इसके चलते 2002 में राजा ने संसद को बंग कर दिया और सरकार को गिरा दिया यह लोकतंत्र भी अधिक दिनों तक कायम नही रह सका, यह लोकतंत्र 2002 तक यानी 12 वर्ष ही चल पाया।

नेपाल लोकतंत्र में सफल:

इस बिच 2001 में नेपाल के राजपरिवार में बड़ा रहस्य हुआ क्राउन प्रिंस दीपेन्द्र ने अंधाधुंध गोली चलाकर अपने पिता राजा बिरेन्द्र और रानी ऐश्वारिया समेत राजपरिवार के 9 सदस्यों को मार डाला और खुद को भी गोली मार ली। इसके बाद दीपेन्द्र के चाचा ज्ञानेंद्र राजा बने।

वर्ष 2005 में राजा ज्ञानेंद्र ने सारी शक्ति अपने हाथो में ले ली राजा ज्ञानेंद्र ने गाँवों में माओवादियों के बढ़ते प्रभाव का बहाना बनाकर क्षेत्रो को अपने कब्जे में ले लिया। इससे आन्दोलन और भड़का फिर लोकतंत्र के लिए संघर्ष हुए 2006 में संघर्ष अपने शिखर पर पहुँच गया आखिरकार 2006 में राजा को झुकना पड़ा और नवम्बर 2006 में एक समझौते के साथ गृह युद्ध का अंत हुआ। मई 2008 में फिर नेपाल में लोकतंत्र की स्थापना हुई जो आज तक कायम है।

ये भी पढ़ें –

 

नेपाल का संविधान:

नेपाक का नया संविधान 2015 में लागू हुआ है, नेपाल में बरसो के राजनेतिक संघर्षो के बाद नया संविधान लागू किया गया। नेपाल में नए संविधान के लागू होने के बाद राजनीतिक नेतृत्व में परिवर्तन आया। अनिवार्य अवधि में एक संविधान का निर्माण करने में पहली संविधान सभा की विफलता के बाद दूसरी संविधान सभा के द्वारा यह संविधान तैयार किया गया।

दुनिया के अन्य राज्यों की भांति नेपाल का संविधान भी एक संप्रभु राज्य की व्यवस्था करता है जिसमे सत्ता का स्त्रोत जनता है इसलिए समय समय पर जन सामन्य की इच्छानुसार शासन संचालन कार्य किया जाता है, नेपाल का वर्तमान संविधान 7वीं बार बना है। नेपाल के संविधान में 296 अनुच्छेद और 7 अनुसूचियां है।

निष्कर्ष: नेपाल में लोकतंत्र की स्थापना कब हुई?

लोकतंत्र की बात करे तो किसी भी लोकतंत्र में प्रत्येक नागरिक का सुख विशिष्ट और ख़ुशी समग्र समृद्धि शान्ति और राष्ट्र की ख़ुशी के लिए महत्वपूर्ण है ऐसा नारा भी लगाया गया था “ लोकतंत्र की बुनियाद मजबूत होनी चाहिए सच्चे और इमानदार नेताओं की जीत होनी चाहिए”। इसलिए हर राष्ट्र में मजबूत लोकतंत्र होना अति आवश्यक होता है।

नेपाल देश को 25 सितम्बर 1768 को आजाद घोषित किया गया था, तथा यहाँ गणतंत्र की स्थापना 29 मई 2008 में की गई थी। वर्तमान में जो यहा पर संविधान लागू है वह 20 सितम्बर 2015 को लागू किया गया था।

इसी तरह हमने आपको ” नेपाल में लोकतंत्र की स्थापना कब हुई ” के विषय में इस लेख के जरिये बताया है। उम्मीद करते है आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा।

 

FAQ:

1. नेपाल के लोकतंत्र की स्थापना कब हुई?

नेपाल के लोकतंत्र की स्थापना 28 मई 2008 में हुई

2. वर्तमान में नेपाल का संविधान कब लागू किया गया?

वर्तमान में नेपाल का संविधान 20 सितम्बर 2015 में किया गया

3. नेपाल का वर्तमान प्रधान मंत्री कोन है?

नेपाल का वर्तमान प्रधान मंत्री शेर बहादुर देउबा। है

4. नेपाल को पहले किस नाम से जाना जाता था?

नेपाल को पहले नेपा। नाम से जाना जाता था

Leave a Comment