नाटो क्या है? नाटो में कौन कौन से देश हैं?

आज हम इस विषय में बात करेंगे, नाटो की स्थापना कब हुई और किसने की थी? उससे पहले ये जान लेना जरुरी है की नाटो क्या है? आपको बता दें की यह एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जो राजनितिक और सैन्य साधनों के माध्यम से अपने देश में स्वतंत्रता और सुरक्षा की गारंटी देता है. NATO का फुल फॉर्म है North attantic treaty organzation (उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन) है, जिसे गठबंधन भी कहा जाता है। चलिए अब जानते है नाटो की स्थापना कब हुई, कैसे हुई और किसके द्वारा किया गया।

नाटो की स्थापना कब हुई:

नाटो की स्थापना 4 अप्रैल 1949 को की गई थी. इसका दूसरा नाम अतलांतिक अलायस है। इसके अंतर्गत एक देश अपनी सेना को दुसरे देश में भेजता है जहा पर इन्हें international ट्रेनिंग दी जाती है, इस स्थापना का यह कारण था की द्वितीय विश्व युद्ध के बाद सेवियत संघ ने पूर्वी यूरोप से अपनी सेनाएं हटाने से मना कर दिया और वहां साम्यवादी शासन की स्थापना का प्रयास किया।

अमेरिका ने इसका लाभ उठाकर साम्यवादी खतरे से सावधान किया. फलतः यूरोपीय देश एक ऐसा संगठन के निर्माण हेतु तैयार हो गए जो उनकी सुरक्षा करें। तभी NATO संगठन बनाया गया। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान पश्चिम यूरोप देशो ने आत्य्धिक नुक्सान उठाया था। अतः उनके आर्थिक पुननिर्माण के लिए अमेरिका एक बहुत बड़ी आशा थी ऐसे में अमेरिका द्वारा नाटो की स्थापना का उन्होंने समर्थन किया।

नाटो में शामिल देश:

नाटो में 30 देश शामिल है जिसमे प्रमुख देश अमेरिका है. इसमें शामिल देशो के नाम निम्नलिखित है:

  • अल्बेनिया
  • बेल्जियम 
  • बुल्गेर 
  • कनाडा 
  • क्रोअटिया
  • चेक रिपब्लिक 
  • डेनमार्क
  • एस्तोनिया 
  • जर्मनी 
  • ग्रीस 
  • हंगरी 
  • आइसलैंड 
  • इटली 
  • लाटविया 
  • लिथुआनिया 
  • लक्सेम्बर्ग 
  • मॉन्टेंगरो 
  • नेइथ्रलैंड 
  • नार्थ मसन्दोनिया 
  • नॉर्वे 
  • पोलैंड 
  • पुर्तगाल 
  • रोमानिया 
  • स्लोवाकिया 
  • स्लोवेनिया 
  • स्पेन 
  • टर्की 
  • फ्रांस 
  • यूनाइटेड किंगडम 
  • यूनाइटेड स्टेट्स

किसके द्वारा की गयी नाटो की स्थापना:

आपकी जानकारी के लिए बता दें की नाटो संगठन को अमेरिका राष्ट्रपति हैरी एस ट्रूमैंन द्वारा ही संकित किया गया था. इस समूह में वह सारे देश शामिल थे जिन्हें साम्यवाद से खतरा था और लोकतंत्र को बचाने में पूरा विशवास रखते थे। NATO की शुरुआत साल 1947 में फ्रांस और ब्रिटेन के बिच हुयी डनकिर्क संधि से हुयी थी द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद जर्मनी की तरफ से हमला होने की सूरत मिलकर सामना करने के लिए ये संधि हुई थी।

नाटो क्या है_Weapon

1949 में जब नाटो बना तो इसके 12 संस्थापक सदस्य थे- अमेरिका, ब्रिटेन, ब्रिजेलियम, कनाडा, डेनमार्क, फ्रांस, आइसलैंड, इटली, लुक्ज्म्बुर्ग, नीदरलैंड्स, नॉर्वे, और पुर्तगाल।

ये भी पढ़ें – 

नाटो का उद्देश्य:

  • यूरोप पर आक्रमण के समय अवरोधक की भूमिका निभाना।
  • सोवियत संघ के पश्चिम यूरोप में तथाकथित विस्तार को रोकना।
  • युद्ध की स्थति में लोगो को मानसिक रूप से तैयार करना।
  • सैन्य तथा आर्थिक विकास हेतु अपने कार्यकर्मो द्वारा यूरोपीय राष्ट्रों के लिए सुरक्षा प्रदान करना।
  • पश्चिम यूरोप के देशो को एक सूत्र में संग्न्ठित करना।
  • इसका मुख्य उद्देश्य स्वतंत्र विश्व की रक्षा के लिए साम्यवाद को पराजित करने के लिए अमेरिका की प्रतिबधता माना गया है।
  • समुद्र से संभावित खतरों से अपने सहयोगीयो की रक्षा करना।
  • आतंकवाद को किसी भी रूप में स्वीकार न करना।
  • अपने सदस्य देशो के क्षेत्र की रक्षा करना और जब संभव हो तो संकट को कम करने के लिए भी प्रयास करना।

राजनितिक और सैन्य गठबंधन:

नाटो लोकतान्त्रिक मूल्यों को बढ़ावा देता है और सदस्यों का विशवास के साथ संघर्ष रोकने के लिए लोकतांत्रिक तरीको का इस्तेमाल करता है। NATO सबसे पहले तो किसी झगड़े को शांतिपूर्वक तरीके से समाधान निकालने का प्रयास करता है लेकिन संसय का हल न निकले तो उसके पास सैन्य शक्ति भी होती है।

NATO मुख्यालय और कार्यक्षेत्र:

नाटो का मुख्यालय बिल्जियम के ब्रुसलेस में है.NATO का कहना है की NATO के किसी भी एक देश पर आक्रमण पुरे संगठन पर आक्रमण होगा यानी किसी एक देश पर आक्रमण का जवाब नाटो के सभी देशो को देना होगा।

NATO की अपनी कोई सेना या अन्य कोई रक्षा सूत्र नही है बल्कि नाटो के सभी सदस्य देश म्युच्य्ल सम्शोता के आधार पर अपनी अपनी सेनाओं के साथ योगदान देंगे। अन्य देश जो नाटो में शामिल नही है उनके प्रति नाटो कोई जवाबदेही नही होगी। 

NATO का महासचिव कोन है?

वर्तमान में NATO के ,महासचिव नॉर्वे के पूर्व प्रधानमंत्री jens stoltenberg है, जो उन्होंने 01 अक्टूबर 2014 से अपने पदभार को संभाल रहे है। इनके महासचिव के रूप में कार्यलय को एक और चार साल के लिए बाधा दिया गया था यानि अब वह 30 सितेम्बर 2022 तक NATO का नेतृत्व करेंगे।

निष्कर्ष: नाटो क्या है

अंत में आपकी जानकारी के लिए बता दिया जाए की भारत देश नाटो का सदस्य नही है, लेकिन अमेरिका सीनेट ने भारत देश को NATO सहयोगी देश का दर्जा देने के लिए विधेयक पारित किया है अतः अमेरिकी सीनेटर ने हथियार निर्यात नियन्त्रण अधिनियम में संशोधन की मांग की। इसके पहले अमेरिका यह दर्जा डजरायल और दक्षिण कोरिया को दे चूका है। आज के समय में दुनिया का सबसे बड़ा सैन्य गठबंधन NATO है, NATO के अंतर्गत जो भी देश नाटो के नियमो का पालन नही करता उसपर कठोर कार्यवाही की जाती है।

FAQ:

NATOकी स्थापना कब हुई?

4 अप्रैल 1949

NATO में कितने देश है?

30 देश।

वर्तमान में NATO के महासचिव कोन है?

नॉर्वे के पूर्व प्रधान मंत्री jens stoltenberg.

1947 में NATO में कितने देश थे?

12

Leave a Comment