Mahatma Gandhi Biography in Hindi | महात्मा गांधी जीवनी | Mahatma Gandhi Short Biography

Mahatma Gandhi Biography in Hindi Briefly

नमस्कार दोस्तों, आज 2 ऑक्टोबर हमारे सबके प्रिय महात्मा गांधी के शुभ जन्म दिवस के अवसर पर हमने उनके जीवन पर एक विस्तृत विवरण प्रस्तुत किया है। हमारे यह लेख प्रस्तुत करने का यह लक्ष्य है की हम सब नए स्वाधीन भारत के अधिवासी उनके जिबनी पढ़ें और उनसे सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलें और भारत वर्ष की उन्नति में अपना योगदान दें। 

तो महात्मा गांधी के जीवन कथा से रूबरू होने के लिए इस लेख “Mahatma Gandhi Biography in Hindi / महात्मा गांधी जीवनी” को अंत तक जरूर पढ़ें। 

महात्मा गांधी कौन थे?

महात्मा गांधी

महात्मा गांधीजी भारत के प्रख्यात स्वतंत्रतासेनानियों में एक स्वर्णिम नाम हैं। उनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात राज्य के पोर बंदर में हुआ था। उनका मूल नाम मोहन दास करम चंद गांधी है, लेकिन भारत की स्वतंत्रता में उनका योगदान उल्लेखनीय से अधिक होने के कारण उन्हें महात्मा गांधी नाम से सम्मानित किया गया था। महात्मा की उपाधि उन्हें महान नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने दी थी। 

उनके पिता श्री करम चंद गांधी थे और उनकी मां श्रीमती पुतली बाई थीं। पुतली बाई एक धार्मिक महिला थीं।बहुत कम औपचारिक शिक्षा होने के बावजूद करमचंद अपने ज्ञान और अनुभव के कारण एक अच्छा प्रशासन बन गए। 

महात्मा गांधी के आद्य जीवन:

मैट्रिक की परीक्षा पास करने के बाद गांधी कानून की पढ़ाई करने इंग्लैंड चले गए। अपनी डिग्री पूरी करने के बाद वे भारत वापस आ गए और मुंबई में कानून की प्रैक्टिस करने लगे। एक बार अफ्रीका के उनके एक ग्राहक ने उन्हें कानूनी उद्देश्य से दक्षिण अफ्रीका में आमंत्रित किया था। अफ्रीका में उन्होंने अंग्रेजों द्वारा भारतीय लोगों के खिलाफ किए गए भेदभाव को देखा।

ट्रेन में यात्रा करते समय गांधी जी को ट्रेन से बाहर निकाल दिया गया था और इसके पीछे का कारण यह था कि वे प्रथम श्रेणी की बोगी में यात्रा कर रहे थे। इस क्षण में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक नायक का जन्म हुआ। उन्होंने काले लोगों और वहां रहने वाले भारतीयों के लिए लड़ने की शपथ ली। ऐसा कहा जाता है कि अफ्रीकी लोगों के लिए लड़ते हुए उन्होंने सत्य और अहिंसा के महत्व को समझा।

1984 में मामला सुलझ गया और वह इंग्लैंड छोड़ने और अपनी मातृभूमि भारत लौटने की तैयारी कर रहे थे लेकिन तत्कालीन सरकार को एक भेदभावपूर्ण विधेयक पारित करना था। गांधी ने बिल का विरोध करने के बारे में सोचा। हालांकि वह बिल को पारित होने से रोकने में मदद नहीं कर सके, लेकिन उन्होंने वहां भारतीय समुदाय की शिकायतों की छाप छोड़ी।

महात्मा गांधी के भारत प्रत्यावर्तन और संग्रामी जीवन का आरंभ:

अफ्रीका से वापस आने के बाद गांधी ने भारत में ही भेदभाव की वही समस्याएं देखीं। 1920 में उन्होंने भारत में ब्रिटिश सरकार के खिलाफ एक असहयोग आंदोलन का आह्वान किया। गांधीजी स्वशासन और पूर्ण स्वराज चाहते थे। यह आंदोलन गांधीजी द्वारा आयोजित पहला बड़े पैमाने पर सिविल डिसोबेडिएंस आंदोलन था। गांधीजी चाहते थे कि भारतीय सभी ब्रिटिश शिक्षण संस्थानों, उद्योगों को बंद कर दें, ब्रिटिश सामान मिलना बंद कर दें। गांधीजी चाहते थे कि लोग हाथ से बने स्थानीय सामान खरीदें।

गांधीजी के इस आंदोलन ने तुर्की के लोगों को अपने देश में अस्पृश्यता समाप्त करने के लिए प्रेरित किया। चौरी-चौरा कांड के बाद इस आंदोलन को रोक दिया गया था।

 

चौरी-चौरा कांड के बाद गांधी जी ने पूर्ण स्वराज के अपने सपने पर से नज़र नहीं हटाई, बल्कि स्वतंत्रता आंदोलन में और अधिक सक्रिय हो गए।  १९३० में गांधीजी ने दांडी सत्याग्रह नामक एक और आंदोलन शुरू किया। यह आंदोलन अहिंसक सविनय अवज्ञा द्वारा संचालित था। गांधीजी अपने अनुयायियों के साथ साबरमती आश्रम से दांडी तक 390 किलोमीटर की 24 दिनों की यात्रा पर निकले।

उस समय ब्रिटिश सरकार के पास ब्रिटिश राज नमक कानून नामक एक कानून था जिसे गांधीजी और उनके अनुयायियों ने तोड़ा। वे दक्षिण की ओर बढ़ते रहते हैं। अधिक से अधिक लोग गांधीजी का अनुसरण करते रहे। 4 मई 1930 की आधी रात को गांधी जी को गिरफ्तार कर लिया गया। इस मार्च ने फिर से अंतरराष्ट्रीय मीडिया का ध्यान आकर्षित किया। गांधीजी की जेल के अंत तक यह आंदोलन जारी रहा।इस आंदोलन को भी कहा जाता है लवण सत्याग्रह। 

भारत छाड़ आंदोलन की सुरुआत:

भारत छोड़ो आन्दोलन

गोवालिया मैदान में गांधीजी ने भारत छोड़ो आंदोलन की घोषणा की। यह भारत के लोगों के लिए करो या मरो का आह्वान था। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने गांधी जी के नेतृत्व में यह आंदोलन चलाया। ब्रिटिश सरकार ने इस अवधि में अधिकांश कांग्रेस नेताओं को जेल भेज दिया। इस अवधि में सुभाष बोस निर्वासन में थे और धुरी शक्तियों का समर्थन कर रहे थे। अमेरिकी राष्ट्रपति रूजवेल्ट भी भारत के समर्थन में आए और उन्होंने ब्रिटिश प्रधानमंत्री चर्चिल पर भारतीय मांगों को पूरा करने का दबाव बनाया।

भारत छोड़ो आंदोलन कई कारणों से विफल रहा। आंदोलन का दमन पूरी ताकत से था। हिंदू महासभा, अखिल भारतीय मुस्लिम लीग और अन्य रियासतें ब्रिटिश सरकार का समर्थन कर रही थीं। व्यवसायियों ने भी सरकार का समर्थन किया क्योंकि वे लाभ कमा रहे थे।अंग्रेजों को वायसराय की परिषद, ब्रिटिश भारतीय सेना का भी समर्थन प्राप्त था।

गोपाल कृष्ण गोखले ने गांधी से कांग्रेस में शामिल होने का अनुरोध किया। गांधीजी 1920 से 1942 तक कांग्रेस के प्रमुख नेता थे। 1945 में अंग्रेजों ने दो नए राष्ट्र बनाने के लिए भूमि का विभाजन किया। महात्मा गांधी जी जैसे अनगिनत महान नेताओं के योगदान के कारण भारत ने 15 अगस्त 1947 को अपनी स्वतंत्रता अर्जित की। 

महात्मा गांधी जी के मृत्य:

आजादी के कुछ ही महीने के बाद भारत और पाकिस्तान की विभाजन के कारण देश में बहुत सारे विवाद का आरंभ हुआ जोइसमे महात्मा गांधी को दोषी ठहराया गया। इन सब बाद विवाद के चलते 1948 जनवरी 30 की सुबह जब महात्मा गांधी साबरमती आश्रम में प्रातः प्रार्थना कर रहे थर तब दुर्भाग्य से नाथूराम गोडसे नामक एक आततायी ने उनकी गोली मारकर हत्या कर दी थी। उनकी हत्या पूरी देश को स्तब्ध कर दिया था। 

 

अंतिम बात:

गांधी जी ने मार्टिन लूथर किंग जूनियर, जेम्स बेव और नेल्सन मंडेलाजैसे कई विदेशी नेताओं को प्रेरित किया। संयुक्त राष्ट्र ने 2 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में घोषित किया। गांधीजी ने जो सबसे महत्वपूर्ण उपाधि अर्जित की, वह यह है कि समस्त भारत राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सम्मान में सिर झुकाता है। वह अपना सब कुछ त्याग कर सभी भारतीयों के दिलों में अमर हो गए।

 

उम्मीद करते हैं यह लेख “Mahatma Gandhi Biography in Hindi / महात्मा गांधी जीवनी” आपको पसंद आया होगा। इस लेख को अपने दोस्तों, और परिवार वर्गों में शेयर जरूर करें धन्यवाद। 

FAQ

 

  1. Gandhiji Date of Birth

    जन्म: 2 अक्टूबर 1869 (2 Oct 1869)

  2. Mahatma Gandhi Birth Place

    Porbandar Gujarat.

  3. महात्मा गांधी पिता का नाम

    Karamchand Gandhi

    Karamchand_Gandhi

  4. महात्मा गांधी माता का नाम

    Putlibai Gandhi

thehindisagar

TheHindiSagar हिंदी सागर Blog आप के लिए हमेसा Best Content लाता है। हमारा लक्ष लोगों को सूचनात्मक कंटेंट के माध्यम से सूचित करना जिसे वो समझ सके। हम Technology से लेके मनोरंजन तक, Politics से ले कर Business तक, खेल से लेके नौकरी तक की सुचना सबकुछ की खबर आपके पास लाने की निरंतर प्रयास कर रहे हैं।

Related Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.