JPEG या JPG क्या है और क्यों उपयोग होता है? जानिए JPEG के वारे में एक बिसृत विवरण

अक्सर आपने देखा होगा की हमारे फोन में आए हुए Whatsapp फोटो, Telegram फोटो या फिर इंटरनेट से डाउनलोड किया गया फोटो आदि को जब फाइल मैनेजर पर देखते हैं तो फोटो की नाम के अंत में .jpeg या .jpg लिखा होता है। 

क्या आप जानते हैं की JPEG या JPG क्या है और उसका उपयोग किस लिए किया जाता है?

अगर आपके मन में भी यह प्रश्न उठ रहा है तो हमारे ये पोस्ट “JPEG या JPG क्या है और क्यों उपयोग होता है?” को अंतिम तक जरूर पढ़ें आपको JPEG का एक विस्तृत ज्ञान मिल जायेगा। 

JPEG या JPG क्या है?

JPEG का पूरा नाम है Joint Photographic Expert Group

JPEG/JPG फोटो को संक्षिप्तीकरण करने की एक विधि है। यह डिजिटल फोटो को संक्षिप्त करने के लिए Lossy Compression Technique नामक तकनीक का उपयोग करता है। किसी फोटो को JPEG फॉर्मेट में बदल देने से फोटो की आकार कम हो जाता है और फोटो की गुणवत्ता भी ह्रास नही होता। 

JPEG ISO International Standardization Organization (ISO) जिसका हिंदी नाम है अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन और International Electrotechnical Commission (IEC) जिसका हिंदी अर्थ है अतर्राष्ट्रीय विद्युत आयोग की एक संयुक्त समिति है। पहला JPEG समूह 1986 के वर्ष में बनाया गया था और पहला JPEG मानक 1992 के वर्ष में बनाया गया था। और तब से JPEG को लोकप्रिय और सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले फ़ाइल स्वरूप माना जाता है। 

JPEG का काम क्या है ?

JPEG एक छवि को संक्षिप्तीकरण करने के लिए Lossy Compression Algorithm (हानिपूर्ण संपीड़न एल्गोरिदम) का उपयोग करता है, जिसमें छवि के संपीड़न के दौरान कुछ डेटा हटा दिया जाता है। JPEG मूल फोटो की कुछ रंग को हटा देता है जिन रंग को इंसान की आंख देख नही पता या पहचान नहीं पाता। 

JPEG किस तरह फोटो को संक्षिप्तीकरण करता है ?

  • प्रारंभ में, मूल फोटो की पिक्सल की रंग और Brightness के हिसाब से मूल फोटो को विभिन्न प्रकार के नमूने में परिवर्तित किया जाता है। 
  • विभिन्न प्रकार के नमूने में परिवर्तित करने के वाद मूल फोटो को 8X8 की खंड में विभाजित हो जाता है। इस 8×8 खंड को पिक्सल (Pixel) कहते हैं। 
  • मूल फोटो को खंड करने के वाद मूल फोटो की जो मूल रंग होता है लाल,हरा और नीला रंग (RGB- Red,Green,Blue) को रंग परिवार के सभी रंगों में रूपांतर किया जाता है।
  • उसके बाद, मूल फोटो को संक्षिप्तीकरण करने के लिए प्रत्येक पिक्सेल पर Discrete Cosine Transform (असतत कोसाइन रूपांतरण सूत्र) लागू 
  • किया जाता है।
  • उसके बाद परिणत फोटो का मात्रा निर्धारण कर के ZigZag Scan किया जाता है। 
  • ZigZag Scan करने के वाद Run Length और Huffman Coding Algorithm की मदद से अंतिम फोटो को JPEG फोटो के रूप में बदला जाता है। 

JPEG की विशेषताएं

  • JPEG फोटो को अन्य प्रकार के फोटो में भी परिवर्तित किया जा सकता है।
  • JPEG संक्षिप्तीकरण एक ही समय में कई फाइलों के लिए काम कर सकता है।
  • JPEG इमेज फॉर्मेट में 29 अलग प्रकार के कोडिंग प्रक्रिया होते हैं। 
  • JPEG कोई फोटो को कुछ Bytes तक भी संक्षिप्त कर सकता है फोटो की गुणवत्ता को बिना बदले। 
  • JPEG फोटो को उसके मूल फोटो में भी बदला जा सकता है।

JPEG का इस्तेमाल क्यों होता है ?

  • चित्र या छवियों के लिए जिनमें कई रंग हैं, JPEG उपयोग करने के लिए सबसे अच्छा प्रारूप है।
  • JPEG फॉर्मेट का उपयोग ग्राफिकल डिजिटल कंटेंट को स्टोर या ट्रांसमिट करने के लिए किया जाता है।
  • JPEG फॉर्मेट की मदद से हम इमेज को इंटरनेट पर ट्रांसमिट कर सकते हैं।
  • जेपीईजी प्रारूप सभी इंटरनेट साइटों में समर्थित है।

किसी फोटो को JPEG में बदलने में क्या फायदा मिलता है ?

  • JPEG फॉर्मेट को आसानी से एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस तक या इंटरनेट पर भेजा जा सकता है।
  • सभी हार्डवेयर टूल्स जैसे प्रिंटर ,प्रोजेक्टर आदि को सपोर्ट करें।
  • JPEG फॉर्मेट सभी रंगों की एक विस्तृत श्रृंखला का समर्थन करता है।
  • JPEG फॉर्मेट लगभग सभी ब्राउज़रों के साथ अनुकूल होता है। 
  • किसी फोटो को JPEG फॉर्मेट में संक्षिप्तीकरण करने से मूल फोटो की गुणवत्ता कम नहीं होता। 
  • अन्य प्रकार की फोटो की तुलना में JPEG का आकार कम होता है इसलिए कम जगह की खपत करता है।
  • JPEG हर कंप्यूटर, मोबाइल उपकरणों, कैमरा उपकरणों आदि में अनुकूल होता है। 
  • अन्य प्रकार फोटो की तुलना में JPEG का Image Processing बहुत तेज़ी से होता है। 

JPEG या JPG क्या है – अंतिम बात

तो दोस्तों उम्मीद करते हैं ही JPEG के वारे में आपको पता चल गया होगा। अगर ये Post “JPEG या JPG क्या है और क्यों उपयोग होता है ? पसंद आया तो हमे Comments करके जरूर बताएं और Post को अपने दोस्तों में या रिश्तेदारों में Share करना ना भूलें धन्यवाद। 

Leave a Comment