Bima Kya Hai? बीमा क्या है?और बीमा के प्रकार What is Insurance in Hindi?

नमस्कार दोस्तों, आज कल हर चीज का बीमा कराया जा रहा है। और भारत समेत बहुत देशों में बीमा कराना एक बाध्यतामूलक हो गया है। तो क्या आपको पता है बीमा असल में क्या होता है और बीमा को इतना महत्व क्यूँ दिया जा रहा है ?

अगर आप बीमा को अच्छे से समझना चाहते हहाईं तो आप बिल्कुल सही जगह आए हैं। हम इस लेख “Bima Kya Hai? बीमा क्या है?और बीमा के प्रकार” में बीमा से जुड़े हर एक जानकारी आपके लिए प्रस्तुत करके लाए हैं। आप इस लेख में Bima Kya Hai और बीमा कितने प्रकार के होते हैं जान पाएंगे, तो लेख को अंतिम तक जरूर पढ़ें।

बीमा क्या है?(Bima Kya hai) What is Insurance in Hindi

बीमा पॉलिसी होल्डर और कंपनी के बीच एक एग्रीमेंट है जो आकस्मिक घटने वाली दुर्घटना के मामले में एक निश्चित वित्तीय सहायता के एश्योरेंस देता है। बीमा लेने के लिए आपको उस बीमा कंपनी को मासिक या वार्षिक या अर्ध-वार्षिक भित्ति में नियमित रूप से पैसा देना पड़ता है जब तक आप कोई दुर्घटना से पीड़ित हो जाते अथवा बीमा का अवधि खतम हो जाता है। 

भारत में बीमा के प्रकार 

भारत में दो प्रकार के बीमा किया जाता 

  1. जेनरल इंश्योरेंस (General Insurance)
  2. जीवन बीमा पॉलिसी/लाइफ इंश्योरेंस (Life Insurance)

जेनरल इंश्योरेंस अथवा सामान्य बीमा क्या है? (General Insurance Kya Hai)

जेनरल इंश्योरेंस बीमा क्या है? General Bima Kya Hai

सामान्य बीमा किसी भी प्रकार का बीमा है जो जीवन बीमा नहीं है।  सामान्य बीमा निम्नलिखित प्रकार की आकस्मिक दुर्घटना को कवर करता है: 

  1. स्वास्थ्य बीमा Health Insurance
  2. ऑटोमोबाइल बीमा Automobile Insurance
  3. गृह बीमा Home Insurance
  4. अग्नि बीमा Fire Insurance
  5. यात्रा बीमा Travel Insurance

 

1. स्वास्थ्य बीमा क्या है?/Health Insurance Kya Hai?

पॉलिसी धारक की मृत्यु को छोड़कर किसी भी स्वास्थ्य समस्या के मामले में, पॉलिसी धारक कुछ चिकित्सा व्यय वहन करता है। ऐसे चिकित्सा खर्चों की प्रतिपूर्ति या सीधे बीमा कंपनी द्वारा भुगतान किया जाता है। 

स्वास्थ्य बीमा निम्नलिखित प्रकार के खर्चों को कवर करता है: 

  1. अस्पताल में भर्ती
  2. इलाज
  3. अस्पताल में भर्ती होने के बाद हुए मेडिकल बिल
  4. अस्पताल में भर्ती होने की अवधि के दौरान सामान्य दिन देखभाल खर्च 

स्वास्थ्य बीमा के प्रकार 

  • व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा: व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा केवल पॉलिसी धारक की सुरक्षा करता है न कि उसके आश्रितों या परिवार के सदस्यों की।
  • परिवार फ्लोटर बीमा: फैमिली फ्लोटर इंश्योरेंस पॉलिसी धारक के परिवार के सभी सदस्यों को कवर करता है। आमतौर पर परिवार के सदस्यों का मतलब पति पत्नी और बच्चे होते हैं।
  • गंभीर बीमारी कवर: इस प्रकार का स्वास्थ्य बीमा कुछ विशिष्ट स्वास्थ्य समस्याओं जैसे कैंसर, ब्रेन स्ट्रोक, गुर्दे की विफलता आदि के लिए प्रदान करता है।
  • कर्मचारियों का स्वास्थ्य बीमा: इसे समूह स्वास्थ्य बीमा भी कहा जाता है। इस प्रकार का स्वास्थ्य बीमा नियोक्ता द्वारा अपने कर्मचारियों के लाभ के लिए प्रदान किया जाता है।
  • दुर्घटना बीमा: इस प्रकार का बीमा घातक दुर्घटनाओं से होने वाले खर्चों को कवर करता है। 

 

2. ऑटोमोबाइल बीमा क्या है?/Automobile Insurance Kya Hai?

मोटर वाहन दुर्घटना होने पर होने वाले खर्चों का बीमा करने में मोटर बीमा सहायक होता है। 

मोटर बीमा के प्रकार:

विभिन्न प्रकार के मोटर बीमा इस प्रकार हैं- 

  1. कार बीमा
  2. बाइक बीमा
  3. कमर्शियल व्हीकल बीमा 
  • कार बीमा: कार बीमा कार दुर्घटना से होने वाले खर्च के लिए सहायक है। कार बीमा केवल चार पहिया वाहनों को कवर करता है  न उससे अधिक और न कम। कार बीमा दो प्रकार के होते हैं। एक है थर्ड पार्टी इंश्योरेंस और दूसरा है कॉम्प्रिहेंसिव कवर पॉलिसी।
  • बाइक बीमा: बाइक का बीमा बाइक दुर्घटनाओं से होने वाले खर्च के लिए किया जाता है। इस बीमा के लिए एकमात्र शर्त यह है कि बाइक का मालिकाना एक ही व्यक्ति के पास होना चाहिए।
  • कमर्शियल व्हीकल बीमा: इस प्रकार का बीमा व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए किया जाता है। व्यापारिक संगठन कच्चे माल और तैयार माल के परिवहन के लिए अक्सर वाहन का उपयोग करते हैं और उनके लिए दुर्घटना एक सामान्य बात है। ऐसी समस्याओं को कवर करने के लिए इस प्रकार का बीमा सहायक होता है।

 

3. गृह बीमा क्या है?/Home Insurance Kya Hai

गृह बीमा प्राकृतिक आपदाओं से घर की सुरक्षा के लिए किया जाता है जैसे की आग लगना या फिर भूकंप और बाढ़ से घर टूट जाना। कुछ कंपनियां डकैती की तरह मानव निर्मित खतरों से भी सुरक्षा प्रदान करती हैं। 

  • गृह बीमा के प्रकार: गृह बीमा निमनालिखित प्रकार के होते हैं:
  • गृह स्ट्रक्चर बीमा: इस बीमा का दावा तब किया जाता है जब घर किसी भी सहमत कारण से नष्ट हो जाता है।
  • सार्वजनिक देयता कवरेज: इस प्रकार का बीमा तीसरे पक्ष के नुकसान को सहायता देने के लिए सहायक होता है जो डिस्ट्रक्शन के समय इमारत के अंदर थे। 

स्टैंडर्ड फायर एंड स्पेशल पेरिस पॉलिसी:- 

इस प्रकार का बीमा किसी भी प्राकृतिक आपदा के कारण हुए नुकसान को कवर करने में सहायता करता है। कुछ ऐसे प्रोब्लम के उदाहरण हैं जेड लैंड स्लाइड, आग लग जाना और भुकम्प। 

  • खतरा बीमा: यह बीमा डकैती या चोरी के कारण हुए नुकसान को कवर करता है।
  • सामग्री बीमा: यह बीमा घर के अंदर की संपत्ति जैसे फर्नीचर, टेलीविजन, कंप्यूटर, फ्रिज आदि को हुए नुकसान को कवर करता है।

 

4. अग्नि बीमा क्या है?/Fire Insurance Kya Hai

अग्नि बीमा आकस्मिक आग लगने के कारण हुए नुकसान की भरपाई करने में मदद करता है। आम तौर पर ऐसे बीमा के लिए प्रीमियम बड़ा होता है। भुगतान किए गए प्रीमियम की तुलना में कवर भी बड़ा है। आमतौर पर इस प्रकार के बीमा बड़े निगमों द्वारा किए जाते हैं।

विभिन्न प्रकार के अग्नि बीमा हैं। उनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

  1. वैल्यूड पॉलिसी
  2. स्पेसिफिक पॉलिसी
  3. फ्लोटिंग पॉलिसी
  4. कंक्वेंशियल पॉलिसी
  5. रिप्लेसमेंट पॉलिसी
  6. कॉम्प्रिहेंसिव फायर इंश्योरेंस पॉलिसी 

 

5. यात्रा बीमा क्या है?/Travel Insurance Kya Hai

यात्रा बीमा भारत के भीतर या भारत के बाहर यात्रा करते समय आकस्मिक दुर्घटनाओं के कारण होने वाले नुकसान को कवर करने में सहायता करता है। ऐसी पॉलिसियों में सामान खो जाना, उड़ान रद्द करना, पासपोर्ट खो जाना और व्यक्तिगत और आकस्मिक चिकित्सा स्थिति शामिल है।

यात्रा बीमा के विभिन्न प्रकार हैं। 

  • घरेलू यात्रा बीमा: इस प्रकार का बीमा देश के भीतर यात्रा करते समय होने वाली हानि को कवर करता है।
  • अंतरराष्ट्रीय यात्रा बीमा: इस प्रकार का बीमा तभी लागू होता है जब कोई व्यक्ति भारत से बाहर यात्रा करते समय दुर्घटना का शिकार हो जाता है।
  • व्यक्तिगत यात्रा बीमा: इस प्रकार का यात्रा बीमा केवल सोलो ट्रिप पर होने वाली दुर्घटनाओं की भरपाई करता है।
  • छात्र यात्रा बीमा: यह बीमा केवल तभी लागू होता है जब कोई छात्र अध्ययन के उद्देश्य से यात्रा करते समय दुर्घटना का शिकार हो जाता है।
  • वरिष्ठ नागरिक यात्रा बीमा: सीनियर सिटीजन के साथ होने वाली दुर्घटनाओं के मामले में यह बीमा लागू है। वरिष्ठ नागरिकों का अर्थ है 60 से 70 वर्ष की आयु वाले लोग।
  • परिवार यात्रा बीमा: इस प्रकार का बीमा उस समय होने वाले नुकसान को कवर करता है जब परिवार की छुट्टी यात्रा के दौरान एक  दुर्घटना का शिकार हो जाता है।

 

जीवन बीमा पॉलिसी या लाइफ इंश्योरेंस क्या है? (JIban Bima/Life Insurance)

जीवन बीमा पॉलिसी- Life Insurance

जीवन बीमा वो बीमा होता है जो की पॉलिसी होल्डर के मृत्यु हो जाने पर उसके परिवार को 1 पहले से निर्धारित किया गया रासी का प्रदान किया जाता है। जीवन बीमा कई प्रकार के होते हैं जिनमे से कुछ महत्वपूर्ण इंश्योरेंस प्लान ये है।

जीवन बीमा के बारे में और बिस्तार से जानने के लिए जीवन बीमा पॉलिसी क्या है? पोस्ट को पढ़िए।

जीवन बीमा के प्रकार/Types Of Life Insurance in Hindi

लाइफ इंश्योरेंस निम्नलिखित प्रकार के होते हैंड

  1. टर्म लाइफ इंश्योरेंस (Term Life Insurance)
  2. पूर्ण जीवन बीमा (Whole Life Insurance)
  3. एंडोमेंट जीवन बीमा (Endowment Plans)
  4. यूनिट लिंक्ड बीमा (Unit-Linked Insurance Plan)
  5. चाइल्ड प्लान (Child Plan)
  6. पेंशन प्लान (Pension Plan)

 

टर्म लाइफ इंश्योरेंस क्या है?/Term Life Insurance Kya Hai

टर्म लाइफ इंश्योरेंस मैं मैच्योरिटी बेनिफिट नही होता। ये पॉलिसी के तहत पॉलिसी होल्डर को तभी क्षति की परिपूर्ति की जाती है जब उसका नृधरित समय पर देहांत हो जाए। टर्म इंश्योरेंस सस्ता है और साथ ही साथ काम प्रीमियम पर ज्यादा कवर देता है।

पूर्ण जीवन बीमा/Whole Life Insurance

पूर्ण जीवन बीमा वो बीमा है जिस पर लंबे समय के लिए पॉलिसी होल्डर को प्रोटेक्शन दी जाती है। इस पॉलिसी के तहत पॉलिसी होल्डर को 100 साल तक का कवर मिलता है। यह प्लान का खासियत ये है की इसपर एक्सटेंडेड इंश्योरेंस मिलता है इसका मतलब है की आपको बस 10 या 15 साल तक का प्रीमियम देना होगा लेकिन आपको डेथ बेनिफिट मिलना बंद नही होगा। अगर आप 100 साल जीते हैं तो आपको प्रीमियम का पैसा एंडोमेंट कवर के हिसाब से लौटा दी जाती है।

एंडोमेंट जीवन बीमा/Endowment Plans

एंडोमेंट प्लान मैं आपको मैच्योरिटी के बाद मैच्योरिटी बेनिफिट दिया जाता है। अगर पॉलिसी होल्डर का देहांत मैच्योरिटी समय से पहले हो जाता है तो उन्हें डेथ बेनिफिट मिलता है। एंडोमेंट पॉलिसी उनके लिए ज्यादा अच्छा है जिन्हे पैसे को सही जगह निवेश करना नही आता और उन्हें इंश्योरेंस के साथ साथ इन्वेस्टमेंट भी करना है। एंडोमेंट प्लान आपको दोनो का सुविधा देता है।

यूनिट लिंक्ड बीमा/Unit-Linked Insurance Plan

यह प्लान भी कुछ हद तक एंडोमेंट जैसा ही है। यह प्लान मैं भी आप निवेश के साथ साथ इंश्योरेंस ले सकते है। लेकिन इस प्लान मैं आपको निवेश करने के लिए ज्यादा फ्लेक्सिबिलिटी मिलती है। यहां आप खुदसे चयन कर सकते हैं की आप कहां निवेश करेंगे।

चाइल्ड प्लान/Child Plan

अपने बच्चो के भविष्य के लिए जिन्हे कुछ पैसे जोड़ने होते हैं उनके लिए यह प्लान बनाया गया है। अगर आपको कुछ हो जाता है तो आपके बच्चो को यह पैसे मिलते हैं साथ ही साथ आपके बच्चे जिंदगी कई आगे बढ़ते रहने से बच्चो को कुछ पुरस्कार भी मिलता है।  यह प्लान की खास बात ये है की जब आपको चाहिए होगा आप पैसे उठा भी सकते हैं।

पेंशन प्लान/Pension Plan

ये प्लान 1 तरह का निवेश ही है। इसमें आप अपना बुढ़ापे के वक्त को सुरक्षित रखने के लिए 1 फंड मैं रेगुलर निवेश करते रहते हैं जो ज्यादा समय तक रहने के कारण 1 बड़ा रिटर्न देता है। इसके अंतर्गत प्रोविडेंट फंड भी आते हैं जहा पर एंप्लॉयर और पॉलिसी होल्डर दोनो थोड़ा थोड़ा निवेश करते हैं। इसको इंश्योरेंस इसलिए कहा जाता है क्युकी इस तरह के इन मैं कभी कभी डेथ बेनिफिट भी मिलता है।

निष्कर्ष 

उम्मीद है इस लेख पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे की बीमा इतने महत्वपूर्ण क्यूँ है। क्या आप अपने बीमा कराया है ? अगर हाँ तो आप एक समझदार इंसान हैं और अगर नहीं तो जल्दी से जल्दी बीमा करा लीजिए क्यूँ की जीवन एक अप्रत्याशित चीज है। क्या पता कब क्या हो जाए…

आपको यह लेख “Bima Kya Hai? बीमा क्या है?और बीमा के प्रकार” कैसा लगा आपका मतमत हमसे जरूर साझा करें और लेख को शेयर करना नया भूलें धन्यवाद। 

thehindisagar

TheHindiSagar हिंदी सागर Blog आप के लिए हमेसा Best Content लाता है। हमारा लक्ष लोगों को सूचनात्मक कंटेंट के माध्यम से सूचित करना जिसे वो समझ सके। हम Technology से लेके मनोरंजन तक, Politics से ले कर Business तक, खेल से लेके नौकरी तक की सुचना सबकुछ की खबर आपके पास लाने की निरंतर प्रयास कर रहे हैं।

Related Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.