भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम क्या था? भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना कब हुई

किसी देश की अर्थव्यवस्था में एक शिखर बैंक होता है, जो मौद्रिक नीति के निर्माण में क्रियान्वयन के साथ-साथ समस्त बैंकिंग क्रियाकलापों के नियंत्रण, नियमन, और निरीक्षण का कार्य करता है। भारत में यह कार्य भारतीय रिजर्व बैंक यानी रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के द्वारा किया जाता है। तो इस प्रकार से भारतीय रिजर्व बैंक भारत का एक बहुत ही महत्वपूर्ण और केंद्रीय बैंक की भूमिका निभा रहा है। बहुत सारे लोगों का यह सवाल होता है कि भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम क्या था? क्या भारतीय रिजर्व बैंक का नाम ब्रिटिश काल से ही भारतीय रिजर्व बैंक था या इसका कोई पुराना नाम भी रहा है?

क्योंकि बहुत सारे बैंक है जिनका ब्रिटिश काल में नाम अलग था और स्वतंत्रता के बाद उनका नाम बदल दिया गया था। तो इस पोस्ट में हम आपको भारतीय रिजर्व बैंक का कोई पुराना नाम था या नहीं उसके बारे में पूरी जानकारी प्रदान करेंगे। और भी भारतीय रिजर्व बैंक(RBI) से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां हम आपको इस पोस्ट में देंगे तो आप इस पोस्ट में शुरू से अंत तक बने रहें ताकि आप इस बैंक के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त कर सकें।

भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम क्या था?

जब भी आप गूगल पर यह सर्च करते हैं कि भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम क्या था? तो कुछ पोस्ट में आपको इसका नाम इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया बताया जाएगा। लेकिन यह जानकारी बिल्कुल गलत है क्योंकि इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया नाम स्टेट बैंक ऑफ इंडिया था ना कि भारतीय रिजर्व बैंक का था।

तो यह जानकारी बिल्कुल गलत है, कि भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम द इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया था अंग्रेजों द्वारा इससे रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया(RBI) कहा जाता था। तो इस प्रकार से ब्रिटिश काल से लेकर के वर्तमान तक इस का नाम यही रहा है इसका कोई भी पुराना नाम नहीं था।

भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना कब हुई और उसका इतिहास क्या है?

भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम क्या था?

भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना 1 अप्रैल 1935 को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया एक्ट 1934 के अनुसार हुई थी। डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने भारतीय रिजर्व बैंक के निर्माण में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। 

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने हिल्टन यंग कमीशन के सामने भारतीय रिजर्व बैंक से संबंधित अपने विचार रखे, जब 1962 में हिल्टन यंग कमिशन भारत में रॉयल कमिशन ऑन इंडियन करेंसी एंड फाइनेंस के नाम से आया था। प्रारंभ में इस बैंक का मुख्यालय कोलकाता में था, 1937 में बैंक का स्थाई रूप से मुख्यालय मुंबई में स्थानांतरित कर दिया गया। वर्तमान में इसका मुख्यालय मुंबई में ही है। 

पूरे भारत में भारतीय रिजर्व बैंक के कूल 29 क्षेत्रीय कार्यालय है। जो अधिकांशतः सभी राज्यों की राजधानियों में स्थित है। स्वतंत्र भारत में 1 जनवरी 1949 को इस बैंक का राष्ट्रीयकरण किया गया था। वर्तमान में भारतीय रिजर्व बैंक भारत सरकार के एक केंद्रीय बैंक के रूप में कार्यरत है। और इस बैंक की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि यह एक केंद्रीय बैंक के रूप में कार्य करता है।

भारतीय रिजर्व बैंक के प्रमुख कार्य

निर्गम एजेंसी

किसी अर्थव्यवस्था में केंद्रीय बैंक ही नोट निर्गम करने वाली एक व्यवस्था होती है भारत में यह केंद्रीय बैंक भारतीय रिजर्व बैंक है।

  • करेंसी में एकरूपता स्थापित करना।
  • मुद्रा पूर्ति पर नियंत्रण रखना।
  • मुद्रा निर्गमन व चलन में जनता का विश्वास बनाना।
  • वाणिज्यिक बैंकों को संकट की अवधि में आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाना।
  • बैंक विवाद निपटाने में सहायता करना।
  • देश के बैंकिंग ग्राहकों के हितों का संरक्षण करना, और उनकी शिकायतों का निराकरण करना।
  • आर्थिक विकास हेतु नीति निर्माण करना।
  • सरकार का वित्तीय सलाहकार।
  • सरकार को ऋण व अग्रिम प्रदान करना।
  • सरकार द्वारा जारी किए गए ट्रेजरी बिलों की खरीदी करना।
  • सरकार की ओर से धन जमा करना और जरूरत पड़ने पर भुगतान भी करना।
  • भारतीय मुद्रा की विनिमय दर को स्थिर करना।
  • मौद्रिक और साख नीति की घोषणा करना।
  • अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष आदि विश्वस्तरीय संस्थाओं में सरकार के एजेंट के रूप में कार्य करना।
  • मुद्रास्फीति दर का स्थिरीकरण करना।
  • अर्थव्यवस्था के विकास व प्रोत्साहन का कार्य करना।
  • देश की अर्थव्यवस्था के लिए मौद्रिक नीति तैयार करना, उसका क्रियान्वयन करना, और निगरानी करना।
  • भारतीय रिजर्व बैंक मुद्रा, साख और देश की आर्थिक स्थिति के बारे में विश्वसनीय जानकारी प्रकाशित करता है।
  • भारत की बैंकिंग की प्रवृत्ति की रिपोर्ट तैयार करना।

भारतीय रिजर्व बैंक की संरचना

भारतीय रिजर्व बैंक केंद्रीय निदेशक बोर्ड द्वारा शासित होता है इसकी संरचना कुछ इस प्रकार से होती है।

  • एक पूर्णकालिक गवर्नर होता है।( वर्तमान में शक्ति कांत दास)
  • चार उप गवर्नर होते हैं।( वर्तमान में माइकल डी पात्रा, मुकेश जैन, राजेश्वर राव, और रवि शंकर है।)

तो इस प्रकार से भारतीय रिजर्व बैंक के पांच सदस्यों से मिलकर बना हुआ होता है।

निष्कर्ष

इस पोस्ट में हमने आपको एक महत्वपूर्ण जानकारी दी कि भारतीय रिजर्व बैंक का कोई पुराना नाम नहीं था। अगर किसी पोस्ट में आपको इसका नाम इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया मिलता है, तो वह जानकारी गलत है। यह बात हमने आपको इस पोस्ट में बताई है। इस बैंक का नाम ब्रिटिश काल से लेकर वर्तमान तक यही रहा है। इसके नाम में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। भारतीय रिजर्व बैंक भारत का एक केंद्रीय बैंक है, और इसकी भूमिका अन्य बैंकों की तुलना में अधिक है। विदेशी विनियम दर का स्तरीकरण करना, स्थिरता पूर्वक आर्थिक वृद्धि करना, व्यापार अनुकूलन करना, साख की मात्रा उपलब्ध करवाना।

यह बहुत सारे महत्वपूर्ण कार्य RBI के द्वारा किए जाते हैं। और भी कार्य हमने आपको इस पोस्ट में बताए हैं। जो कि भारतीय रिजर्व बैंक के द्वारा किए जाते हैं। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी, इसे अपने फ्रेंड्स के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। ताकि वह भी इस बैंक के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकें। और ऐसे ही अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर हमारी पोस्ट पढ़ने के लिए, हमारी वेबसाइट को दोबारा से जरुर विजिट करें। कमेंट बॉक्स में अपनी राय जरूर दें हमें आपकी राय का स्वागत होगा, पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद!

ये भी पढ़ें – 

FAQs

भारतीय रिजर्व बैंक के प्रतीक चिन्ह पर क्या अंकित है?

भारतीय रिजर्व बैंक के प्रतीक चिन्ह पर बाघ और ताड़ का पेड़ अंकित है। पहले बाघ के स्थान पर शेर का प्रतीक था। लेकिन अभी बाग का प्रतीक अंकित है।

भारतीय रिजर्व बैंक का राष्ट्रीयकरण कब किया गया?

रिजर्व बैंक का राष्ट्रीयकरण 1 जनवरी 1949 को किया गया।

भारतीय रिजर्व बैंक का वर्तमान में मुख्यालय कहां है?

भारतीय रिजर्व बैंक का वर्तमान में मुख्यालय मुंबई (महाराष्ट्र) में है।

भारतीय रिजर्व बैंक का पहले मुख्यालय कहा था?

भारतीय रिजर्व बैंक का पहले मुख्यालय कोलकाता में था। 1937 में से मुंबई में स्थानांतरित किया गया।

thehindisagar

TheHindiSagar हिंदी सागर Blog आप के लिए हमेसा Best Content लाता है। हमारा लक्ष लोगों को सूचनात्मक कंटेंट के माध्यम से सूचित करना जिसे वो समझ सके। हम Technology से लेके मनोरंजन तक, Politics से ले कर Business तक, खेल से लेके नौकरी तक की सुचना सबकुछ की खबर आपके पास लाने की निरंतर प्रयास कर रहे हैं।
View All Articles
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x